December 5, 2022

आपदाग्रस्थ क्षेत्र में जितने भी व्यक्ति अभी लापता है उनकी खोजबीन के साथ ही सर्च एवं रैस्क्यू कार्य लगातार करें

पिथोरागढ़
विगत 14 अगस्त को तहसील धारचूला के आपदाग्रस्थ क्षेत्र मांगती घटियाबंगड़ तथा मालपा में किये जा रहे राहत एवं बचाव रेस्क्यू कार्यों के संबंध में प्रदेश के मुख्य सचिव एस0 रामास्वामी द्वारा वीडियों कान्फ्रैसिंग के माध्यम से जिलाधिकारी पिथौरागढ़ सी0 रविशंकर से आवश्यक जानकारी ली गयी।
शुक्रवार को वी0सी0 के माध्यम से प्रदेश के मुख्य सचिव ने जिलाधिकारी पिथौरागढ़ को निर्देश दिये कि आपदाग्रस्थ क्षेत्र में जितने भी व्यक्ति अभी लापता है उनकी खोजबीन के साथ ही सर्च एवं रैस्क्यू कार्य लगातार जारी रखा जाय इस कार्य  में एस0एस0बी0, आईटीबीपी, से भी और अतिरिक्त सहायता लेने के साथ ही धारचूला से काली नदी के किनारे चम्पावत बनबसा तक सर्च एवं रैस्क्यू/खोजबीन का कार्य जारी रखा जाय क्षेत्र में एस0एस0बी0 की चैकियों तथा पुलिस थाना चैकियों के साथ ही अन्य मदद ली जाय।
मुख्य सचिव ने कहा कि आज ही आपदा क्षेत्रों में लापता व्यक्तियों की खोजबीन हेतु एस0डी0आर0एफ0, डाॅग स्काॅट टीम के साथ जनपद में भेजी जा रही है। इसके अतिरिक्त एस0डी0आर0एफ0 के द्वारा राफट के माध्यम से भी काली नदी में खोजबीन जारी रखी जायेगी। उन्होंने जिलाधिकारी पिथौरागढ़ को निर्देश दिए कि नदी में कोंविग सर्च लगातार जारी रखा जाय। इसके अतिरिक्त एन0डी0आर0एफ0 को भी सर्च आॅपरेशन में तैनात किया जाय।
वी0सी0 के माध्यम से मुख्य सचिव ने कहा कि आपदा क्षेत्र में किये जा रहे राहत कार्यों आदि में तेजी लायी जाय। क्षेत्र में जो भी व्यक्ति फसें है उन्हें हैलीकाॅप्टर द्वारा धारचूला तक लाया जाय इसके अतिरिक्त  कैलाश मानसरोवर यात्रियों को भी हैली से लाया एवं ले जाय, उन्होंने कहा कि शासन द्वारा आवश्यकतानुसार 02 हैलीकाॅप्टर पुनः क्षेत्र में भेजे जा रहे है। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में जो भी लोग अभी है उन्हें कुमांऊ मण्डल विकास निगम के पर्यटक आवास ग्रहों के साथ ही अन्य कैपों में फ्री में भोजन कराया जाय।
वी0सी0 में क्षेत्र में सड़क कनैक्टिविटी के संबंध में वर्तमान प्रगति की जानकारी लेने पर जिलाधिकारी पिथौरागढ़ ने मुख्य सचिव को अवगत कराया कि मांगती नाला तक सड़क मार्ग 15 अगस्त को ही ठीक कर लिया गया था। उससे आगे मांगती पुल पर जहाॅ काफी मलवा आदि आ गया था उस पर बी0आर0ओ0 द्वारा कार्य किया जा रहा है। जहाॅ देर सांय तक मार्ग ठीक हो जाएगा इसके पश्चात् वाहन लखनपुर तक चले जाऐंगे। जिलाधिकारी ने अवगत कराया कि लखनपुर से आगे पैदल मार्ग में नजगगांड में पूर्व में जो पैदल पुल था जो आपदा के कारण क्षतिग्रस्त हो गया था उसे स्थाई रूप से खोल दिया गया है वहाॅ पर फोल्डिग स्टीलब्रिज को स्थापित किये जाने की कार्यवाही की जा रही है जो 15 दिन में वहाॅ पर स्थाई फोल्डिंग ब्रिज बन जाएगा। उक्त के अतिरिक्त मालपा में भी क्षतिग्रस्त पुल के स्थान पर अस्थाई पुल बनाया गया है जिससे आवागमन हो रहा है। वहाॅ पर भी स्टील फोल्डिंग ब्रिज लगाए जाने की कार्यवाही की जा रही है। उक्त के संबंध में मुख्य सचिव ने लोक निर्माण विभाग को निर्देश दिए कि इन दोनों स्थानों में स्थाईपुल बनने तक दो दिन के भीतर ट्राली लगाई जाय तथा 15 दिन के भीतर इन स्थानों मे स्थाई स्टील फोल्डिंग ब्रिज लगाए जाय साथ ही सचिव लोनिवि को निर्देश दिये कि आज ही हल्द्वानी से प्रभावित क्षेत्र में 02 ट्राली तथा 02 स्टील फोल्डिंग ब्रिज हल्द्वानी से भेजे जाय।
वी0सी0 में सचिव वित्त एवं आपदा प्रबन्धन अमित नेगी ने अवगत कराया कि जनपद पिथौरागढ़ को आपदा राहत एवं अन्य कार्यों हेतु आपदा निधि से 25 करोड़ रूपये उपलब्ध कराए जा रहे है। मुख्य सचिव ने कहा जो नये स्टील फोल्डिंग ब्रिज बनाए जायेंगे उनके दोनों और मुख्य सचिव ने कहा कि जो नये स्टील फोल्डिंग ब्रिज बनाए जायेंगे उनके दोनों और रोपवे तथा ऊपर फाइवर सैट बनाए जाय ताकि सुरक्षा की दृष्टि से भी वह मजबूत बनें। उन्होंने लोक निर्माण को निर्देश दिए कि क्षेत्र में वर्तमान में लगभगम जो 200 मजदूर लगाए गए है। अगर वह पर्याप्त नही है तो 100 मजदूर अतिरिक्त बढ़ाए जाय।
वी0सी0 के माध्यम से जिलाधिकारी ने आपदाग्रस्थ क्षेत्रों में चलाए जा रहे राहत कार्यों, सर्च एवं रैस्क्यू अभियान के बारे में मुख्य सचिव को अवगत कराया कि आपदा क्षेत्र मालपा तथा मांगती में सर्च एवं रेस्क्यू कार्य लगातार जारी है। इसके अतिरिक्त क्षेत्र में 2 मेडिकल टीम पर्याप्त मात्रा में दवाइयों के साथ भेजी गयी है। जिसमें चिकित्सकों द्वारा बीमार व्यक्तियों के साथ ही स्थानीय लोगों का स्वस्थय परीक्षण कैम्पों के माध्यम से किया जा रहा है। पशुपालन विभाग के 02 चिकित्सकों द्वारा भी क्षेत्र में मृत पशुओं को पोस्टमार्टम तथा निस्तारण  आदि की कार्यवाही की जा रही है। पेयजल विभाग द्वारा क्षेत्र के विभिन्न गांवों में जहाॅ-जहाॅ पेयजल लाइनें क्षतिग्रस्त हो गयी थी वहाॅ अस्थाई रूप से पेयजल आपूर्ति कर दी गयी है इसके अतिरिक्त प्रभावितों को राहत राशि का वितरण के साथ ही कार्यवाही की जा रही है। जिलाधिकारी ने यह भी अवगत कराया कि वर्तमान तक क्षेत्र से लगभग 120 कैलाश मानसरोवर यात्रियों, छोटा कैलाश यात्रियों, स्थानीय बीमार व्यक्तियों, मृतकों के परिजनों, बच्चों व स्थानीय लोगों को हैली से लाया एवं ले जाया गया है। इसके अतिरिक्त क्षेत्र में खाद्यान्न एवं राहत सामग्री भी भेजी जा रही है। मुख्य सचिव ने जिलाधिकारी को बीमार, बुजुर्ग,बच्चे तथा महिलाओं को प्राथमिकता देते हुए हैली सेवा से लाये जाने के निर्देश दिये गये। इसके अतिरिक्त उन्हांेने कहा कि गुंजी में पर्याप्त मात्रा में खाद्यान्न का स्टाक रख लिया जाय ताकि आवश्यकता पड़ने पर खाद्यान्न की किसी भी प्रकार की कमी न पड़े तथा प्रभावितों को हर संभव मदद दी जाय।
वी0सी0 में शासन से सचिव आपदा अमित नेगी, पुलिस उप महानिरीक्षक संजय गुंज्याल समेत अन्य उच्चाधिकारी आदि उपस्थित थे।