August 8, 2022

उत्तराखंड के कुछ जनपदों सहित पिथौरागढ़ जनपद में भारी वर्षा होने की सम्भावना

मौसम विज्ञान विभाग देहरादून के हवाले से प्रभारी जिलाधिकारी सी0 रविशंकर ने अवगत कराया है कि उत्तराखंड में दिनांक 19 अगस्त, 2017 एवं 20 अगस्त, 2017 को उत्तराखंड के कुछ जनपदों सहित पिथौरागढ़ जनपद में भारी वर्षा होने की सम्भावना व्यक्त की गयी है। जिसके कारण कुछ स्थानों पर भूस्खलन, बादल फटने ब्रजपात की घटनाऐं होने से आम जनजीवन प्रभावित हो सकता है।
जिलाधिकारी पिथौरागढ़ सी0 रविशंकर ने मानसून काल को देखते हुए जनपद के समस्त उपजिलाधिकारियों, जिला स्तरीय अधिकारियों/कर्मचारियों को निर्देश दिए है कि प्रत्येक स्तर पर तत्परता बनाये रखने हेतु सावधानी, सुरक्षा एवं आवागमन में नियंत्रण बरता जायें, किसी भी आपदा/दुर्घटना की स्थिति में त्वरित स्थलीय कार्यवाही करते हुए सूचनाओं का तत्काल आदान प्रदान किया जायें तथा आपदा प्रबन्धन आई0आर0एस0 प्रणाली के नामित समस्त अधिकारी एवं विभागीय नोडल अधिकारी हाई अलर्ट में रहेंगे साथ ही एन0एच0, लोनिवि, पी0एम0जी0एस0वाई0, ए0डी0बी0, बी0आर0ओ0 के अधिकारी किसी भी मोटर मार्ग को बाधित होने की दशा में उसे तत्काल खुलवाना सुनिश्चित करेंगे। जिलाधिकारी ने समस्त राजस्व उपनिरीक्षकों/ग्राम विकास अधिकारियों/ग्राम पंचायत अधिकारियों को निर्देश दिए है कि वे अपने क्षेत्रों में बने रहेंगे इसके अतिरिक्त जनपद अंतर्गत समस्त चैकी/थाने भी आपदा संबंधी उपकरणों के साथ हाई अलर्ट में रहेंगे।
जिलाधिकारी ने समस्त संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए है कि वे किसी भी प्रकार की आपदा की सूचना डी0ई0ओ0सी0/आपदा नियंत्रण कक्ष के फोन नम्बर-05964-226326, फैक्स-228050, टोल फ्री नम्बर-1077 पर तत्काल देना सुनिश्चित करेंगे। इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने समस्त जिलास्तरीय अधिकारियों/कर्मचारियों को सख्त निर्देश दिए है कि उक्त अवधि में अधिकारी/कर्मचारी मोबाईल/फोन स्विज आॅफ नही रखगें तथा समस्त अधिकारी व्यक्तिगत बरसाती, छाता टार्च, हैलमेट तथा कुछ आवश्यक उपकरण एवं सामग्री अपने वाहनों में अपने स्तर से रखने हेतु उचित कार्यवाही करेंगे साथ ही उन्होेंने प्रभारी जिला शिक्षाधिकारी को निर्देश दिए है कि विद्यालयों में मानसून काल के दौरान विशेष सावधानी, सर्तकता एवं सुरक्षा बरती जाय। इसके अतिरिक्त मानसूनकाल को देखते हुए सांय 8ः00 बजे के बाद तथा प्रातः 05ः00 बजे से पूर्व परिवहन/समस्त वाहनों को रोकने हेतु कार्यवाही किये जाने के निर्देश संबंधित अधिकािरयों को दिये है।  जिलाधिकारी ने अवगत कराया है कि असामान्य मौसम, अतिवृष्टि, भूस्खलन आदि के दौरान सांय 08ः00 बजे पूर्व भी वाहनों का आवागमन अपिरहार्य स्थितियों जैसे एम्बुलेंस, बीमारी, तत्समान आत्यायिकता (इमरजेंसी), आपातकालीन सेवा वाहन, सैन्य/अद्र्वसैन्य बलों के परिवहन को छोड़कर पूर्णतः प्रतिबन्धित किया जा सकता है, ताकि किसी प्रकार की अप्रिय घटना से बचा जा सकें। इसके अतिरिक्त उन्होंने निर्देश दिए है कि असामान्य मौसम भारी बारीश की चेतावानियों के दौरान उच्च हिमालयी क्षेत्रों में पर्यटकों के आवागमन को अनुमति न दी जाय तथा इस दौरान प्रमुख नदियों के जलस्तर का सतत अवलोकन किया जाता रहे ताकि खतरे के निकट पर पहुंचने से पहले नदी तट के समीपस्थ  लोगों को जनसुरक्षा के दृष्टिगत सुरक्षित स्थानों में जाने हेतु अवगत कराया जा सके।