August 18, 2022

कौशिक ने माँगा सरकारी रिकार्ड में दर्ज डेंगू के मरीजों का ब्यौरा

शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने डेंगू के बढ़ते प्रकोप की रोकथाम हेतु आज मेला नियंत्रण भवन (सीसीआर) के सभागार में  जिलाधिकारी दीपक रावत की उपस्थिति में जिला मुख्य चिकित्सा अधिकारी रविंद्र थपलियाल  सहित प्रशासन के अधिकारियों की बैठक ली।  मंत्री श्री कौशिक ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी तथा जनपद के नगर निकायों व ग्रामीण निकायों के पदाधिकारियों से अब तक सरकारी रिकार्ड में दर्ज डेंगू के मरीजों का ब्यौरा मांगा। मुख्य चिकित्साधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि अब तक जिला स्वास्थ्य विभाग के पास  कुल 24 मामले दर्ज हुए हैं, जिनमें से सात में डेंगू की पुष्टी हुई है। दो मामले ज्वालापुर से, एक बीएचईएल सेक्टर एक से, चार रोशनाबाद से दर्ज किये गये थे। मंत्री ने निजि चिकित्सालयों में डेंगू का इलाज कराने वाले मरीजों की संख्या का ब्यौरा भी मुख्य चिकित्सा अधिकारी से मांगा जिस पर उन्होंने निजि चिकित्सालयों द्वारा मरीजों की संख्या का ब्यौरा  उपलब्ध न कराये जाने की बात कही। इस पर मंत्री ने जिलाधिकारी, मुख्य चिकित्साधिकारी को आइएमए से समन्वय बनाकर सभी छोटे-बड़े निजि चिकित्सालयों को दैनिक रूप् से दिनभर के डेंगू मरीजों का लिखित ब्यौरा उपलब्ध कराने के आदेश जारी करने की बात कही। यदि कोई निजि चिकित्सालय ऐसा नहीं करता है तो वह अवगत कराये कि उनके यहां डेंगू के मरीजों का इलाज नहीं किया जा रहा है। ऐसा नहीं करने वाले चिकित्सालयों पर कार्रवाई की जाये।
मंत्री मदन कौशिक ने डेंगू की रोकथाम व बचाव के लिए किये गये उपायों की जानकारी भी मांगी।
मुख्य चिकित्साधिकारी ने अवगत कराते हुए बताया कि सभी विद्यालयों और खण्ड शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि वह विद्यालय में होने वाली एसेम्बली में प्रार्थना के बाद छात्रों को डेंगू के कारणों और बचाव के प्रति जागरूक करने के लिए जिलाधिकारी और स्वास्थ्य विभाग की ओर से दिये गये दिशा निर्देशों जिनमें घरों के आस-पास व घर में रखे गमलों, कूलरों, बर्तनों, टायर व नारियल के खोल आदि में साफ पानी एकत्र न होने देने की जानकारी छात्रों को अनिवार्य रूप् से पढ़कर सुनायें ताकि सभी छात्रों के माध्यम से संदेश घरों तक पहुंच सके।
नगर निगम तथा नगर पालिकाओं द्वारा डेंगू के लारवा तथा मच्छरों से किये जाने वाले फोगिंग तथा लारवा नाशक दवाओं के छिड़काव की स्थिति की जानकारी नगर आयुक्त अशोक पाण्डेय से ली। जिस पर उन्होंने बताया कि सभी वार्डो में पार्षदों के माध्यम से फोगिंग कराये जाने का कार्य कराया जा रहा है। सफाई नायक वार्डों में नैपसैक के माध्यम से दवा का छिड़काव करा रहे हैं। ग्रामीण निकायों से मशील और दवा छिड़काव की स्थिति भी मंत्री ने ली। जिस पर सभी ग्रामीण निकायों के ईओ ने पर्याप्त मशीने न होने की बात कही। मंत्री ने मशीने क्रय करने के लिए फण्ड जिलाधिकारी व विधायकों के माध्य से प्राप्त करने के निर्देश जिला मुख्य विकास अधिकारी को दिये। यदि निकाय क्षेत्र से सम्बंधित विधायक किसी कारण एक लाख की धनराशि देने में असमर्थ होंगे तो मशीन क्रय का कुल बजट मंत्री मदन कौशिक ने स्वयं वहन करने की बात कही।
जिला चिकित्सालय से डेंगू मरीजों को रेफर कर दिये जाने की लगातार सूचना मिलने को गम्भीरता से लेते हुए कैबिनेट मंत्री ने मुख्य चिकित्साधिकारी तथा स्वास्थ्य विभाग को डेंगू केस में ब्लड बैंक की स्थिति की जानकारी ली। ब्लड बैंक में प्लेटलेट्स सैपरेटर युनिट का जिले के मरीजों के हित में सही ढंग से प्रयोग करने की नसीहत भी कैबिनेट मंत्री ने दी। उन्होंने कहा कि मशीन को मात्र शो केस न बनायें और जो काम यह मशीन जौलीगं्राट में कर सकती है वह काम स्थानीय मरीजों के इलाज के लिए स्वास्थ्य विभाग यहां भी करे। जिला अस्पताल मरीजों को रैफर करने की औपचारिकता तक सीमित न रहे।