November 26, 2022

पंचेश्वर बांध निर्माण के लिए शुक्रवार को होगा पर्यावरण जनसुनवाई का आयोजन

पंचेश्वर बांध निर्माण के लिए शुक्रवार को जनपद पिथौरागढ़ के विकास भवन सभागार में पर्यावरण जनसुनवाई का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में डूब क्षेत्र के  गांवों के अलावा अन्य इलाकों के 2000 लोगों ने शिरक्त की । अधिकांश ने बांध का अपनी उनके द्वारा रखी गयी मांगों के पूरे होने के ऐवज पर खुले मन से सर्मथन किया। इस अवसर पर वाॅप्कोस के ईडी0 डा0 अमित शर्मा द्वारा बांध के निर्माण के संबंध में तथा बांध क्षेत्र में आ रहे विस्थापित क्षेत्रों के बारे में पाॅवर पावइन्अ प्रैजेन्टेशन के माध्यम से विस्तारपूर्वक जानकारी दी। उन्होंने बताया कि 5040 क्षमता की इस परियोजना का मुख्य उदेश्य विघुत उत्पादित करने के साथ ही क्षेत्र के प्रभावित लोगो ंको जरूरी सुविधाएं मुहैया कराने के साथ ही राज्य को 13 प्रतिशत निःशुल्क विद्युत उपलब्ध कराना है जिससे राज्य को 240 करोड़ की धनराशि का अतिरिक्त फायदा होगा। उन्होंने कहा कि इस परियोजना के बनने से स्थानीय लोगों को रोजगार देने के साथ ही प्राथमिकता से उन्हें इस परियोजना से जोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि परियोजना को क्षेत्र की भौगोलिक परिस्थिति आदि को देखते हुए विस्तारपूर्वक अध्ययन कर इसकी डीपीआर तैयार की गई है। बैठक में अवगत कराया गया कि उक्त परियोजना में जनपद चम्पावत पिथौरागढ़ एवं अल्मोड़ा के कुल 134 गांव प्रभावित हो रहे हैं जिसमें पिथौरागढ़ जनपद के 87 गांव प्रभावित हो रहे है। बैठक में प्रमुख कार्यकारी अधिकारी महेन्द्र बहादुर गुरूग ने कहा कि प्रभावित गांवों के परिवारों को भूमि, घर, मुआवजा की अधिकतम राशि का भुगतान किया जायेगा। उन्होंने कहा प्रभावित जनपदों में एक एक हैलीपैड तथा 8 रोपवे बनाये जाएंगें साथ ही भारतीय जलमार्ग प्राधिकरण बनाकर उसे अंतर्राष्ट्रीय स्तर की पर्यटन गतिविधियों, वाटर स्पोटर््स से जोड़ा जाएगा। उन्होंने कहा कि जनस्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखते हुए चिकित्सालयों की सुविधा प्रदान की जायेगी और पूर्व में स्थापित चिकित्सालयों को बेहतर स्थिति में लाने के लिए धनराशि का डीपीआर में प्राविधान किया गया है।
अधिकतर लोगों ने बांध ने विस्थापन के एवज में सरकारी नौकरी, मकान के लिए मुआवजा और पुनर्वास क्षेत्र में प्रत्येक परिवार के लिए पांच एकड़ से 12 एकड़ तक जमीन की मांग उठाई। सभी की मांगों को सूचीबद्व कर लिया गया है। शुक्रवार को अपर जिलाधिकारी मुहम्मद नासिर की अध्यक्षता में सुबह से ही लोगों का एकत्र होने का सिलसिला शुरू हो गया था। सुबह करीब 11 बजे से शुरू हुई जनसुनवाई में जनपद पिथौरागढ़ के कई विकासखंडों से करीब 2000 लोगों ने शिरकत की। विस्थािपत होेने पर मकान के लिए 20 लाख, पांच एकड जमीन, परिवार  के एक सदस्य का सरकारी नौकरी, क्षेत्र के पढ़े लिखे बेरोजगारों को बांध परियोजना में काम, साथ ही भूमि का सर्किल रेट बढ़ाने की मांग भी अधिकतर लोगों ने उठाई। अपर जिलाधिकारी मुहम्मद नासिर ने बताया कि उनकी सभी मांगों को सूचीबद्व किया जा रहा हैं तथा शासन को प्रेषित की जायेगी।
जनसुनवाई के दौरान मुख्य कार्यकारी अधिकारी एम0बी0 गुरंग ने कहा कि 5040 मेगावाट क्षमता के इस पंचेश्वर बांध जीवन भर के लिए मील का पत्थर साबित होगा तथा विश्व पटल पर क्षेत्र का नाम भी आयेगा। और क्षेत्र की विशिष्ट पहचान इससे मिलेगे। उन्होेने कहा कि दोनो सरकारें डूब क्षेत्र एवं आस-पास के लोगांे के विकास के लिए कटिबद्व है। उन्हेांने कहा कि इसके बनने से पर्यटन विकसित होने के साथ ही एंडवेचर खेलों के विकास की सम्भावनाऐं होगी जिससें लोगों को रोजगार के अवसर प्राप्त होगें। इस अवसर पर मा0 विधायक डीडीहाट बिशन सिंह चुफाल एवं प्रदेश उपाध्यक्षत केदार जोशी द्वारा बांध से संबंधित सम्पूर्ण जानकारी उपस्थित लोगों को दी गयी।
जनसुनवाई के दौरान विधायक डीडीहाट विशन सिंह चुफाल, विधायक धारचूला हरीश धामी, प्रदेश उपाध्यक्ष केदार जोशी, अपर जिलाधिकारी मुहम्मद नासिर, सी0ई0ओ0 पी0डी0ए0 एम0बी0 गुरूंग, असीसंटेंटय सी0ई0ओ0 आशोक खरिया, एम0लाल ईडी आर एंड आर, दिलीप, लिडोला, ईडी पर्यावरण, सोमपाल सिंह क्षेत्रीय अधिकारी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड,  अमन शर्मा परियोजना अधिशासी निदेशक एम0 दीक्षित सहायक मुख्य अभियंता वेप्काॅस, पुलिस अधीक्षक अजय जोशी, एसडीएम सदर एस0केपाण्डेय, प्रमुख विण, कनालीछीना, मूनाकोट, पुलिस उपाधीक्षक शेखर सुयाल, जिला विकास अधिकारी गोपाल गिरी, पूर्व दर्जाराज्य मंत्री महेन्द्र लुंठी, जनपद प्रभारी मंत्री के प्रतिनिधि गोपू महर, बांध प्रभावित क्षेत्र की जनता, जनप्रतिनिधि, विभिन्न संगठनों के लोग,पर्यावरणविद् आदि उपस्थित थे। प्रेसनोट लिखे जाने तक जनसुनवाई जारी है।