December 5, 2022

बायोमैट्रिक उपस्थिति दर्ज किया जाना अनिवार्य

अपर सचिव सचिवालय प्रशासन श्री अर्जुन सिंह ने बताया कि उत्तराखण्ड के चतुर्थ विधानसभा के दिनांक 08 जून, 2017 को प्रारम्भ होने वाले द्धितीय सत्र के दौरान विभिन्न विभागों द्वारा नामित किये गये नोडल अधिकारियों द्वारा बायोमैट्रिक उपस्थिति दर्ज किया जाना अनिवार्य है। इसके लिये उत्तराखण्ड विधानसभा परिसर में स्थित विधायी एवं संसदीय कार्य अनुभाग कक्ष स0- 327, विधानसभा परिसर में स्थापित किये गये सचिवालय के अस्थाई कन्ट्रोल रूम में, मा0 मंत्री, विधायी एवं संसदीय कार्य उत्तराखण्ड सरकार के निजी स्टाफ के कक्ष में मशीनों की व्यवस्था की गई है।
उन्होने बताया कि उत्तराखण्ड सचिवालय में कार्यरत समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों की प्रत्येक कार्य दिवस एवं निर्धारित समयावधि दर्ज किये जाने हेतु बायोमैट्रिक उपस्थिति प्रणाली को दिनांक 12 मई, 2017 से अनिवार्य रूप से लागू किया गया है।