December 6, 2022

यूनिवर्सिटी ऑफ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज के 15 वें दीक्षांत समारोह

यूनिवर्सिटी ऑफ पेट्रोलियम एंड एनर्जी स्टडीज के 15 वें दीक्षांत समारोह में प्रतिभाग करते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि हमें अपने पूर्वजों, प्राचीन ज्ञान, संस्कृति पर गर्व करना चाहिए। हमें अपनी जड़ों पर विचार करना चाहिए। मुख्यमंत्री ने सुझाव दिया कि दीक्षांत समारोहों के अवसर पर पहने जाने के लिए ऐसा परिधान विकसित किया जाए जिसमें भारतीयता की झलक मिले। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में गाउन पहनने से विनम्रतापूर्वक मना कर दिया था।
मुख्यमंत्री श्री रावत ने छात्र-छात्राओं को बधाई देते हुए कहा कि हमारी युवा पीढ़ी सशक्त भारत का आधार है।  हमारे यहां उच्च शिक्षा में नामांकन की दर 25.53 प्रतिशत है जबकि अमेरिका में यह दर 39 प्रतिशत है। भारत के संदर्भ में इसे बढ़ाए जाने की जरूरत है। नई पीढ़ी भारत के विकास में भागीदार बने। हनुमान जी का उदाहरण देते हुए कहा कि हनुमानजी कहते थे कि प्रभु राम का काम किए बिना विश्राम नही कर सकते। यही भावना हमें राष्ट्र के काम के लिए रखनी चाहिए। यूथ हमारी ताकत हैं।
मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि भारत, सर्वाधिक युवा आबादी वाला देश है। पूरी दुनियां में स्किल्ड मेनपावर की भारी मांग है। हमारे युवाओं कोे इन अवसरों का लाभ उठाना चाहिए। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारत सरकार द्वारा स्किल डेवलपमेंट, रोजगार सृजन, रिसर्च डेवलपमेंट के लिए प्रभावी पहल की गई हैं। कार्यक्रम को उŸाराखण्ड के राज्यपाल डाॅ. कृष्णकांत पाल, केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री श्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी सम्बोधित किया।
इस अवसर पर राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री डाॅ.धनसिंह रावत, यूनिवर्सिटी के चांसलर डाॅ.एस.जे. चोपड़ा, कुलपति डाॅ. श्रीहरि होवाड़, अध्यक्ष श्री उत्पल घोष सहित अन्य गणमान्य उपस्थित थे।