December 5, 2022

लड़कियों की घटती जनसंख्या पर चिंता

पिथोरागढ़
कन्या भ्रूण हत्या की रोकथाम व बेटियों को शिक्षित किए जाने के साथ ही समाज में महिलाओं को आगे लाने व सामाजिक भेदभाव मिटाने के संबंध में बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं अभियान के तहत एक बैठक आज जिलाधिकारी सी0 रविशंकर की अध्यक्षता में विकास भवन सभागार में सम्पन्न हुई, जिसमें जनपद में लड़कियों की घटती जनसंख्या पर चिंता व्यक्त की गई। इसके अलावा लिगानुपात सुधारने के लिए समाज में जागरूकता फैलाने हेतु किए जा रहे कार्यों के संबंध में चर्चा करते हुए पावर प्वाइंट प्रजेन्टेशन के माध्यम से विस्तार पूर्वक जानकारी जिला कार्यक्रम अधिकारी मुकुल चैधरी द्वारा बैठक में दी गयी। बैठक में घटते लिंगानुपात पर चिंता व्यक्त करते हुए जिलाधिकारी ने कहा कि कन्या भ्रूण हत्या को रोकने हेतु सबसे कारगर उपाय आम जनता को जागरूक करना है, इस हेतु ग्रामीण स्तर पर आगंनबाड़ी कार्यकत्रियों, एएनएम, आशा कार्यकत्रियों के माध्यम से जनजागरूकता अभियान चलाया जाए। इस हेतु विशेष रूप से बुजुर्ग महिला, पुरूषों को अधिक जागरूक और शिक्षित किया जाए। बैठक में इस हेतु निर्णय लिया गया कि जनपद में पंजीकृत सभी अल्ट्रासाउंड केंद्रों में ट्रेंकिग डिवाइस व कक्ष में सीसीटीवी कैमरा लगाया जाए। इस हेतु जिलाधिकारी ने बैठक में उपस्थित मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिए कि वह एक माह के अन्तर्गत सभी अल्ट्रासांउड केन्द्रों में उक्त सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराएं। जिलाधिकारी ने इस कार्य के लिए स्वयंसेवी संस्थाओं से भी सहायता लेने की बात कही।
बैठक में उपजिलाधिकारी वैभव गुप्ता ने कहा कि बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं अभियान के अन्तर्गत लड़कियों को सामाजिक सुरक्षा आदि हेतु समस्त पुलिस थानों, चैकियों को आवश्यक निर्देश दिए गए हैं, इस हेतु जनपद में चाइल्ड हेल्पलाइन जिसका दूरभाष नंबर 1098 है, स्थापित किया गया है। बैठक में उक्त संबंध में अपने विचार व्यक्त करते हुए मुख्य विकास अधिकारी डा0 आशीष कुमार चैहान ने कहा कि इस हेतु सामाजिक सहभागिता की विशेष आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि इस हेतु महिलाओं की विशेष भूमिका रहती है। उन्होंने मुख्य शिक्षा अधिकारी से कहा कि शिक्षा विभाग के माध्यम से प्रत्येक गांव में पांच ऐसी आदर्श महिलाओं को चिन्हित करें, जो इस कार्यक्रम की जागरूकता आदि हेतु बेहतर कार्य कर सकें। इस हेतु उन्होंने एक माह के भीतर सूची उपलब्ध कराने को कहा।    बैठक में उपस्थित सीडीपीओ ने अवगत कराया कि कन्या भू्रण हत्या के रोकथाम हेतु प्रशासन की ओर से जनपद के विभिन्न क्षेत्रों में नुक्कड़-नाटकों, गोष्टियों आदि के माध्यम से जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि निकट भविष्य में जनपद के सीमांत क्षेत्र में अन्य विभागों के साथ मिलकर उक्त जनजागरूकता अभियान वृहद रूप में चलाया जाएगा। उन्होंने अवगत कराया कि इस हेतु जनपद स्तर पर एक हस्ताक्षर अभियान भी उनके द्वारा चलाया जा रहा है।
बैठक में जिलाधिकारी ने जिला कार्यक्रम अधिकारी को निर्देश दिए कि जनपद अंतर्गत बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं अभियान के तहत वे जो भी प्रचार कर रहे है जिसमें स्लोगनों आदि को सरल भाषा एवं स्थानीय जनता के अनुरूप स्लोगनों आदि का प्रचार प्रसार करें ताकि स्थानीय जनता को उसकी संबंधित जानकारी पूर्णतया समझ में आ सकें। इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने कहा कि बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं अभियान का अपने स्तर से प्रचार-प्रसार करना सुनिश्चित करें जिसमें वे समस्त ब्लाकों, अन्य जनप्रतिनिधियों आदि को ब्लक मैसेज भेजकर इसका प्रचार करायें साथ ही निर्देश दिये कि जनपद में 8 ब्लाकों के अंतर्गत एक महिला एंबेसडर को नियुक्त किया जाय जो बेटी बढ़ाओ बेटी पढ़ाओं अभियान के तहत कार्य कर इस अभियान को सफल बनाने में अपना योगदान दे। इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि बेटी को बचाये जाने हेतु वह ग्राम पंचायत स्तर का कार्य करें जिसमें वे विभिन्न सुपरवाइजरों, आशा कार्यकत्रियों आदि का सहयोग ले साथ ही कहा कि जो भी उक्त अभियान को सफल बनाने हेतु उनसे जुड़ता है तो वे उसे बेटी बचाओ बेटी बढ़ाओं सें संबंधित एक बैच, स्टीकर आदि दे ताकि वह भी उक्त अभियान में एक सदस्य बन सकें इस हेतु कार्य करें। इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि युवा संगठनों, महिला मंगलदलों आदि के माध्यम से भी अभियान को सफल बनाने में इनका भी सहयोग लिया जाय। साथ ही निर्देश दिये कि महिला लिंगानुपात जनपद में बढ़े इस हेतु त्वािरत गति से कार्य करना सुनिश्चित करें। इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि जिला टास्क फोर्स के अंतर्गत जितने भी विभाग है वे उक्त अभियान को सफल बनाने हेतु कार्य करना सुनिश्चित करेंगे। इसके अतिरिक्त जिलाधिकारी ने जिला शिक्षा अधिकारी को निर्देश दिए कि जनपद अंतर्गत जितने भी स्कूल है उनमें स्कूली छात्राओं हेतु अलग से टाॅयलेट बनाये जाय।     जिलाधिकारी ने कहा कि कन्या भू्रण हत्या की रोकथाम हेतु पी0सी0पी0एन0डी0टी0 एक्ट के अंतर्गत सख्त कार्यवाही की जाय। जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद स्तर पर ऐसी महिला एवं बेटियों का चयन कर उन्हें आइकाॅन बनाया जाय जिनके द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में इस जनपद का नाम रोशन किया गया है उन्हें बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं अभियान के अंतर्गत जनपद स्तर पर आइकाॅन बनाते हुए जन जन तक बेटी बचाओं का संदेश पहॅचाया जाय।
जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में बेटी बचाओं अभियान के अंतर्गत जिस भी व्यक्ति द्वारा उल्लेखनीय कार्य किया जा रहा हो उन्हें पुरस्कृत किया जायेगा, उन्होंने कहा कि जनपद के विकास खंड कनालीछीना, मूनाकोट, गंगोलीहाट में कम लिंगानुपात है इन विकासखंडों में विशेष अभियान चलाकर जनजागरूक किया जाय। उन्होंने समस्त खण्ड विकास अधिकारियों को भी निर्देश दिये कि वह अपने क्षेत्रान्तर्गत क्षेत्र पंचायत समिति की बैठकों तथा अन्य बैठकों तथा क्षेत्रीय भ्रमण के दौरान जनता को बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओं अभियान की जानकारी देना सुनिश्चित करते हुए जनपद में महिलाओं का लिंगानुपात बढ़ाया जाय, इस पर मुख्य विकास अधिकारी आशीष चैहान ने जिलाधिकारी को अवगत कराया कि जनपद में महिला लिंगानुपात बढ़ाये जाने हेतु कार्य किया जा रहा है तथा आने वाले समय में जनपद में निश्चित ही महिला लिंगानुपात में इजाफा होगा।
बैठक में उपस्थित स्वयंसेवी संस्था अर्पण से आई रेनू ठाकुर द्वारा जनपद में बेहतहाशा बढ़ रहे अल्ट्रासाउंड केंद्रों पर चिंता व्यक्त करते हुए स्वास्थ्य विभाग से लगातार उनमें औचक निरीक्षण करने की बात कही ताकि कन्या भू्रण हत्याओं को रोका जा सके। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी डा0 आशीष चैहान, जिला शिक्षाधिकारी, जिला पंचायत राज अधिकारी, समस्त उपजिलाधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी मुकुल चैधरी समेत सीडीपीओ विभिन्न विभागों के अधिकारी व स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि उपस्थित थे।