December 5, 2022

सरकारी सेवा में जन सेवक के रूप में कार्य करने की अनुभूति अनूठी

सरकारी सेवा में जन सेवक के रूप में कार्य करने की अनुभूति अनूठी होती है। यह विचार मुख्य कोषाधिकारी विक्रम सिंह जन्तवाल ने इस जनपद से देहरादून में मुख्य वित्त अधिकारी परिवहन आयुक्त कार्यालय में स्थानान्तरित  होने पर अपने विदाई समारोह के अवसर कही। उन्होंने बताया कि उनका स्थानान्तरण देहरादून में हुआ हैं। उक्त कार्यालय के अतिरिक्त उन्हें वरिष्ठ वित्त अधिकारी सूचना एवं लोक सम्पर्क निदेशालय देहरादून, उपनिदेशक पेंशन एवं हकदारी, सहायक निदेशक वित्त डाटा सेन्टर, उपनिदेशक प्रशिक्षण सेन्टर ट्रेनिंग फाइनेशियल एडमिनिशटेशन, सैनिक कल्याण निदेशालय का भी अतिरिक्त प्रभार दिया गया है।
श्री जन्तवाल ने कहा कि हमेशा सरकारी सेवक को ईमानदारी के साथ कार्य करने का मिशन रखना होगा तभी वह अपने जीवन में आगे बढ़ पायेगा। उन्होंने कहा कि जनपद में कार्यकाल के दौरान उन्हें अनेक नये अनुभवों का एहसास हुआ और प्रत्येक कर्मचारी ने उन्हें पूर्ण सहयोग दिया तभी वे अपने मिशन में सफल रहें। जब भी किसी अधिकारी व कर्मचारी को मेरी सेवाओं की आवश्यकता पडे़गी में हमेशा तैयार रहूंगा। इस अवसर पर उन्होंने यह भी कहा कि वित्त का यह कार्य करने में हमें नियमों व शासनादेशों का ज्ञान रखना पडेगा तभी हम वित्तीय मामलों का निस्पादन करने में सफल हो पायेंगे। मुख्य कोषाधिकारी ने 01 जुलाई 2012 को वरिष्ठ कोषाधिकारी के पद पर कार्यभार ग्रहण किया और 01 जुलाई 2015 को मुख्य कोषाधिकारी के पद पर कार्यभार ग्रहण किया और 04 जुलाई 2017 को उन्होंने स्थानान्तरित  होने पर अपना कार्यभार कोषाधिकारी प्रकाश पंत को दिया। मुख्य कोषाधिकारी के पद पर देहरादून से मोहम्मद गुलफाम अहमद द्वारा शीध्र कार्यभार ग्रहण किया जायेगा।
इस अवसर पर वित्त अधिकारी माध्यमिक शिक्षा जयन्त राम, वित्त अधिकारी जिला पंचायत मोहन लाल टम्टा, क्षेत्रीय पुरातत्व अधिकारी चन्द्र सिंह चैहान, वरिष्ठ अध्यापक माधों सिंह बिष्ट, सहायक कोषाधिकारी विरेन्द्र सिंह भोज, जगत मोहन जोशी, मदन मोहन पाण्डे,सहायक लेखाकार अभिनाश सती, प्रभु दयाल, इन्द्र सिंह बिष्ट सहित अनेक ने अपने विचार रखते हुये श्री जन्तवाल के कार्यकाल की प्रशंसा की और कहा कि उनके कार्यकाल में नई कार्य संस्कृति को बढ़ावा मिला। इस अवसर पर कोषागार कर्मियों की तरफ से विरेन्द्र सिंह भोज, राजेन्द्र पंत, वन विभाग की ओर से वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी श्याम सिंह रावत, पुरातत्व विभाग से चन्द्र सिंह चैहान व रमेश काण्डपाल ने उन्हें स्मृति चिन्ह देकर समान्नित किया तथा कोषाधिकारी प्रकाश पंत व सहायक कोषाधिकारी मदन मोहन पाण्डे ने एक अभिनन्दन पत्र कोषागार परिवार की ओर भेंट किया।
इस अवसर पर उपस्थित कोषागार कर्मियों व अन्य विभाग के कर्मियों ने उन्हें आशुरूपूर्ण नेत्रों से उन्हें विदाई दी। विदाई समारोह में कोषाधिकारी रानीखेत कुमारी कमलेश भण्डारी, पूर्व काषोधिकारी महेश चन्द्र पंत, उपकोषाधिकारी लमगड़ा राजेन्द्र गिरी गोस्वामी, उप कोषाधिकारी देघाट प्रेमराम, सहायक कोषाधिकारी रानीखेत ख्याली दत्त शर्मा, सहायक कोषाधिकारी ताकुला सी0एल0 वर्मा, सहायक कोषाधिकारी द्वाराहाट इरफान, सहायक लेखाकार ताकुला बहादुर सिंह करायत सहित कोषागार में कार्यरत कनिष्ठ सहायक, लेखाकार, सहायक लेखाकार व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन सहायक कोषाधिकारी लमगड़ा मदन मोहन पाण्डे ने किया।