August 8, 2022

उत्तरकाशी : कृशक क्षेत्र में कार्य करने वालो को विधायक निधि से मिलेगी धनराशी : गोपाल रावत

  • INDIA 121 उत्तरकाशी

कृशि, उद्यान एवं रेषम विकास मंत्री सुबोध उनियाल ने जनपद के ब्लाक भटवाडी में तीन दिवसीय स्वच्छता जागरूकता कृशि पर्यटन एवं सांस्कृतिक विकास मेले के आयोजित समापन समारोह के मौके पर बतौर मुख्य अतिथि के रूप में प्रतिभाग करते हुए समेष्वर देवता की डोली के सानिध्य में दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का षुभारंभ किया। जबकि विषिश्ठ अतिथि के रूप में गंगोत्री विधायक गोपाल सिह रावत, जिलाधिकारी डा. आषीश चौहान ने षिरकत की। कार्यक्रम के षुभारंभ से पहले मंत्री श्री उनियाल ने षहीद विपिन षाह राइका भटवाडी परिसर में देवदार के पौधा लगाकर वृक्षारोपण किया। इस मौके पर मंत्री ने रैथल ग्रामसभा के महिलाओ को संस्कृति संरक्षण हेतु षाल ओढाकर सम्मानित किया, साथ ही उनके साथ रासौ नृत्य भी किया। कृशि के क्षेत्र में उत्कृश्ठ कार्य करने वाले दो कृशक जगमोहन सिह रावत एवं दलवीर सिह रावत को सम्मानित किया।
सभा को संबोधन करते हुए मंत्री उनियाल ने कहा कि उत्तराखण्ड राज्य के आन्दोलन में दो नारे महत्व पूर्ण थे, आज दो अभी दो उत्तराखण्ड राज्य दो, एवं कोदा, झगोरा खायेंगे अपना राज्य बनायेगें। जिस उद्देष्य को लेकर राज्य बना है वह नही हो रहा है, मैदानी क्षेत्र में पलायन करना ही था तो राज्य किस लिए बनाया। हमे विशम परिस्थिति में राज्य बनाने का औचित्य ही नही रहा। अगर पलायन उन्नती की है उनका आर्थिक विकास की है, यदि होटल आदि छोटे छोटे नौकरियों में काम पर जाना है तो पलायन ठीक नही है, उन्होने कहा कि इस तरह की पलायन को रोकने के लिए सरकार हर कदम पर साथ है, कहा कि अपने पूर्वजों की 10 पीढियों से विरासतन अपनी खेती को संजोये रखे। राज्य सरकार ने अपने 6 माह के कार्य काल में 50 से अधिक निर्णय किसान के हित में दिया है। सीमान्त एवं मझोले कृशक को 2 प्रतिषत की व्याज पर 1 लाख तक की कृशि ऋण दिया जा रहा है। अब सरकार ने विधायक निधि से कृशको के लिए कृशि बैक से उपकरण की किराया भी दे रहे है। जैविक उत्पाद के लिए सरकार ने मंडियों में 6 दुकान आरक्षित की है। अटल सामुहिक जडी-बूटी योजना चला रहे है। उन्होने कहा कि राज्य सरकार बागवानी के क्षेत्र में गम्भीरता से कार्य कर रहे है, बागवानी को हिमाचल प्रदेष के बराबर बनाने के लिए सरकार बागवानी कास्तकारों की सहयोग करेंगे। उन्होने चकबंदी विंग गांव लेकर कहा कि सरकार मै एक गांव हुॅ, के तहत वीर माधोसिंह भण्डारी के नाम पर हर ब्लाक में एक गांव का चयन कर रहे है, जिन गांवों में सामुहिक खेती की प्रथा आज भी विद्यमान है, उक्त गांव में कृशि के क्षेत्र में 15 लाख खर्च किया जायेगा।
उनियाल ने उपला टकनौर क्षेत्र में  कास्तकारों की सेब ढुलान हेतु जोचरिया, पाछबिल्या एवं टुकर्या तोक मे रोपवे लगाने  की कहा  की तीन वर्श में एक-एक कर किया जायेगा। उन्होने गंगोत्री विधान सभा क्षेत्र में 5 कोल्ड रूप एवं 2 कलेक्सन सेन्टर देने की बात कही। कृशि विष्व विद्यालय की मांग पर केन्द्रीय कृशि मंत्री से वार्ता करने की आष्वासन दिया।
गंगोत्री विधायक गोपाल सिह रावत ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि कृशक क्षेत्र में कार्यकरने वालो को विधायक निधि से धनराषी दी जायेगी। उन्होने कहा कि खेती को बढावा देने के लिए सरकार कृशको ं के साथ कदम से कदम मिलाकर खडी है। इस मौके पर ब्लाक प्रमुख चंदन सिह पंवार, प्रधान भटवाडी एवं स्थानीय लोगों ने अपनी मांग पत्र मंत्री को सौपा।
इस अवसर पर नमामी गंगे सयोजक रावल हरीष सेमवाल, पूर्व ब्लाक प्रमुख सुरेष चौहान, पूर्व नपाअ. सुधा गुप्ता, सलाहकार एनएम मलाषी,  मुख्य विकास अधिकारी विनित कुमार पुलिस अधीक्षक ददन पाल, डीएफओ संदीप कुमार,उपजिलाधिकारी देवेन्द्र नेगी, जिपअ. जितेन्द्र सिह राणा, अरविन्द सिह, कनिश्ठ प्रमुख धमेन्द्र नेगी, अनिता चौहान, पुश्पा चौहान, सुचिता सेमवाल सहित अधिकारी जनप्रतिनिधि एवं आम लोग उपस्थित थे।