December 9, 2022

आजादी के आन्दोलन में बौरारो घाटी के शहीदों को दी श्रद्वाजंली

आजादी  के आन्दोलन में बौरारो घाटी के शहीदों का अविस्मरणीय योगदान रहा है जिसे कभी भी भुलाया नहीं जा सकता यह बात मा0 बाल विकास एवं पशुपालन मंत्री श्रीमती रेखा आर्या ने शहीदों को श्रद्वाजंली देते हुए कही। उन्होंने कहा कि सोमेश्वर घाटी के शहीदो ने स्वतन्त्रता संग्राम में कुली बेगार प्रथा, अगस्त क्रान्ति, असहयोग आन्दोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाकर हमें आजादी दिलाने में अपनी भागीदारी निभायी है। मा0 मंत्री ने कहा कि यह घाटी शहीदो की घाटी है जिसमें अंग्रेजी हुकूमत को उखाड़ फेक कर स्वयं शहीद हो गये।
उन्होंने कहा कि इस अवसर पर हमें शहीद किशन सिंह बौरा, शहीद रतन सिंह, त्रिलोक सिंह, शहीद बिशन सिंह बोरा, उमेद सिंह पधान और शहीद वाक सिंह की शहादत को याद रखकर क्षेत्र के विकास के लिए आगे आकर कार्य करना होगा। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने अपने भ्रमण के दौरान चनौदा स्थित गांधी आश्रम में पहॅुचकर वहां पर स्वरोजगार को अपनाने के लिये स्थानीय लोगों को ऊनी वस्त्र व ऊन उद्योग से जोड़ने की बात कही।
इसी परिणाम स्वरूप चनौदा में क्षेत्रीय गांॅधी आश्रम की स्थापना की गई और लोगों ने इस व्यवसाय को अपनाकर आर्थिक रूप से मजबूती प्रदान की। वर्तमान में यह उद्योग विलुप्त के कगार पर है इसके उत्थान के लिये सरकार द्वारा ठोस निर्णय लिये गये है। विगत वर्ष यहां पर बौयलर मशीन सहित अन्य उपकरण क्रय करने हेतु 18 लाख की धनराशि स्वीकृति की गई है साथ ही चनौदा क्षेत्रीय गांधी आश्रम के जीर्ण-शीर्ण भवन व अन्य उपकरण कच्चा माल व कताई बुनाई हेतु भी धनराशि स्वीकृत किये जाने हेतु सामूहिक प्रयास किये जायेंगे।
इस अवसर पर उन्होंने चनौदा स्थित कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय हेतु टीन शैड का आगणन बनाकर उपलब्ध कराने की बात कही। इसके अलावा माला को जाने वाले पैदल पुल का नाम स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी स्व0 प्रयाग दत्त जोशी के नाम से रखने की घोषणा की। महात्मा गाॅधी इण्टर कालेज चनौदा के जीर्णोद्वार हेतु भी उन्होंने अपने स्तर से सहयोग करने की बात कही। मा0 मंत्री ने कहा कि सोमश्वर क्षेत्र के विकास के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जायेगी। इस कार्यक्रम में स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी शहीद स्थल के समीप बने भवन के सभागार जिसका सौन्दर्यकरण किया गया है उसका उदघाटन भी संयुक्त रूप से किया गया। इस अवसर पर स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी की धर्मपत्नी श्रीमती कौशल्या देवी व धनी बोरा को शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया।
इस अवसर पर मा0 केन्द्रीय कपड़ा राज्य मंत्री अजय टम्टा ने कहा कि सोमेश्वर क्षेत्र के शहीदो द्वारा दी गयी कुर्बानी को हम तभी सही मायने में साकार कर सकेंगे जब हम क्षेत्र के विकास के लिए हर सम्भव प्रयास करेंगे।
उन्होंने कहा कि हम सभी को दलगत राजनीति से ऊपर उठकर कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि गाॅधी आश्रम के विकास हेतु केन्द्रीय उद्योग मंत्रालय सहित वस्त मंत्रालय संयुक्त रूप से सहयोग देने का प्रयास करेगा यह तभी सम्भव हो पायेगा जब इससे जुड़े लोग सक्रिय होकर कार्य करेंगे। इसके अलावा उन्होंने कहा कि जो भी समस्यायें क्षेत्र की होंगी उसके लिए वे पूर्ण सहयोग प्रदान करेंगे। शहीद समारोह में पूर्व विधानसभा अध्यक्ष गोविन्द सिंह कुंजवाल, अनुसूचित जाति आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष राजेन्द्र बाराकोटी, ब्लाॅक प्रमुख ताकुला दीपक बोरा, ब्लाॅक प्रमुख धौलादेवी पीताम्बर पाण्डे, किशन सिंह बोरा, ललित भाकुनी, गाॅधी आश्रम के निदेशक हेम पंत, स्वतन्त्रता संग्राम सेनानी उत्तराधिकारी परिषद के महिपाल सिंह भाकुनी बालिका उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की प्रभारी प्रधानध्यपिका श्रीमती कल्पना सहित अन्य लोगो ने  ने अपने विचार रखे और कहा कि हम सभी को इन शहीदो के बलिदान से प्रेरणा लेनी होगी और प्रदेश और क्षेत्र के विकास के लिए एकजुट होकर कार्य करना होगा। अनेक उपस्थित लोगो ने शहीद स्मारक पर पुष्प अर्पित किये।
शहीद दिवस समारोह में जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष प्रशान्त भैसोड़ा, भाजपा मण्डल अध्यक्ष देवेन्द्र जोशी, ज्येष्ठ प्रमुख राजेन्द्र सिंह कैड़ा, भुवन जोशी, सांसद प्रतिनिधि संजय साह जगाती, गाॅधी आश्रम के मंत्री सोबन सिंह बिष्ट, सामाजिक कार्यकर्ता किशन सिंह बिष्ट, गोपाल खोलिया, किशोर नयाल, लाल सिंह बजैठा, तहसीलदार खुश्बू आर्या, सहित अनेक जन प्रतिनिधि एवं स्थानीय जनता उपस्थित थी। इस  अवसर पर विभिन्न विद्यालय के बच्चों द्वारा मार्चपास्ट किया गया। कार्यक्रम का संचालन बालम भाकुनी ने किया।