August 10, 2022

उत्तरकाशी : भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा उत्तरकाशी के जिला संयोजक ने विभिन्न विद्यालयों में प्रधानाचार्य/अध्यापकों से किया संपर्क

  • देवेश भट्ट

अखिल विश्व गायत्री परिवार शांतिकुंज हरिद्वार, श्री वेदमाता गायत्री ट्रस्ट के तत्वावधान में भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा विभिन्न राज्यों में नौ भाषाओं में विगत 25 वर्षों से एक लाख से अधिक स्कूलों में अखिल भारतीय स्तर पर आयोजित की जा रही है।

जिसमें 50 लाख छात्र-छात्राएं शामिल रहे हैं। उत्तर प्रदेश, उत्त्तराखण्ड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, दिल्ली, पंजाब, छत्तीसगढ, सहित देश के विभिन्न राज्यों में भारतीय संस्कृति, के प्रसार, मानवीय मूल्यों के संवर्धन, भारतीय संस्कृति परम्परा और महापुरूषों के जीवन चरित्र ,शिक्षा, विद्या, कला-प्रेमियों के ज्ञानवर्धन एवं विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए भारतीय संस्कृति ज्ञान पर आधारित पाठ्यक्रम शांतिकुंज में आमंत्रित शिक्षाविदों, विद्वानों के मार्गदर्शन में तैयार किया जाता है। जो हर उम्रवय के विद्यार्थियों के स्तरानुसार ज्ञानवर्धन तथा अभिव्यक्ति की क्षमता विकसित करने में लाभदायक है। इस परीक्षा में प्रतिभाग करने पर विद्यार्थियों को उनके कक्षानुसार निर्मित पुस्तक प्रदान की जाती है और दो माह बाद उसी पर आधारित परीक्षा ली जाती है। इस प्रतियोगी परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों को प्रमाणपत्र तथा स्थान प्राप्त करने पर एक निर्धारित धनराशि, स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया जाता है। इसके अंतर्गत मानवीय मूल्यों सांस्कृतिक चेतना के विकास के उद्देश्य से विद्यालय स्तर पर भारतीय संस्कृति ज्ञान परीक्षा एक निर्धारित तिथि पर विद्यालय के प्रधानाचार्य तथा शिक्षकों के मार्गदर्शन में संपन्न करवाई जाती है।

इस वर्ष भी परीक्षा का आयोजन जनपद के विभिन्न ब्लाकों के सभी विद्यालयों में करवाई जायेगी।

इस हेतु जनपद स्तर पर मुख्य शिक्षा अधिकारी जी ने सभी खण्ड शिक्षा अधिकारियों को आदेश पत्र निर्गत करते हुए कहा है कि यह परीक्षा स्वैच्छिक है इसके लिए किसी भी छात्र छात्राओं को बाध्य नहीं किया जाये।जो भी विद्यार्थी स्वेच्छा से इसमें प्रतिभाग करना चाहे तो निर्धारित पंजिकरण शुल्क जमा कर ,अपना स्थान सुरक्षित कर सकते हैं।

गायत्री परिवार परिजन जनपद संयोजक मुरली मनोहर भट्ट तथा बचन सिंह पंवार जी ने विभिन्न विद्यालयों में प्रधानाचार्य/अध्यापकों तथा छात्र छात्राओं से मिलकर, संस्कृति ज्ञान परीक्षा के बारे में बताया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.