December 6, 2022

उत्तरकाशी : दुर्गम क्षेत्रों में बेहतर सेवा प्रदान करना प्राथमिकता : DM

  • INDIA 121 उत्तरकाशी

जिला सभागार में जिलाधिकारी डा. आषीश चौहान के अध्यक्षता में राश्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के संबंधित अधिकारियों की समीक्षा बैठक हुई। आरबीएसके टीम के पदाधिकारियों को निर्देषित करते हुए कहा कि दुर्गम क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं की रिर्पोटिंग भावनात्मक दृश्टिकोण से करें। कहा कि दुर्गम क्षेत्र में स्वास्थ्य को वर्तमान में उपलब्ध संसाधन के तहत बेहतर सेवा प्रदान करना उनकी प्राथमिकता है। आरबीएसके टीम को 26 जनवरी एवं 15 अगस्त को बेस्ट ऑफ टीम मन्थ के तहत सम्मानित किये जायेगे।
जिलाधिकारी ने दुर्गम क्षेत्र के गांवों एवं तैनात फार्मस्सिट की सूची तत्काल उपलब्ध करने के निर्देष दिये। कहा कि जिला अस्पताल में तैनात डाक्टरों के द्वारा इन क्षेत्र में माह के दो दिन एक-एक डाक्टर को भेजकर षिविर के माध्यम से लोगों की स्वास्थ्य उपचार कराये जायेगे। उन्होने टीम को ग्रामीण क्षेत्रों के कुपोशित बच्चे एवं उन गर्भवती महिलाओ की सूची उपलब्ध करने के निर्देष दिये, जिनके प्रसव एक या दो माह के अन्तराल में होना है, साथ ही कहा कि उनकी हिमोग्लोबिन की रिर्पोट भी प्रस्तुत करेंगे, इस कार्य में आगनबाडी की भी सहयोग ले। जिससे कि समय पर उन महिलाओ को स्वास्थ्य लाभ मिल सकें। उन्होने कहा कि आरबीएसके टीम की व्हाट्सअप ग्रुप बनाकर उसमे भी फोटो सहित सूची डाले। उन्होने बच्चों के दन्त रोग को गम्भीरता से लेने के निर्देष दिये। कहा कि उनके जीवन में परिवर्तन लाने की भावना होनी चाहिए।
जिलाधिकारी ने क्षेत्र में वन गुजरों की निवास स्थान बच्चो की संख्या की सूची तैयार कर उपलब्ध कराने के निर्देष दिये। वहीं मुख्य षिक्षा अधिकारी को निर्देषित किया कि सभी प्रधानाचार्य से आरबीएसके टीम की गई कार्य की प्रमाण पत्र देना सुनिष्चित करेंगे। साथ ही प्रत्येक माह में ब्लाक षिक्षा अधिकारी एवं आरबीएसके टीम की बैठक अनिवार्य रूप से करवाये। जिला स्तर पर मुख्य चिकित्साधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी एवं आरबीएसके पदाधिकारी प्रत्येक माह समीक्षा बैठक करना  सुनिष्चित करेंगे। टीम द्वारा की गई कार्यों की रिर्पोट प्रस्तुत करेंगे। उन्होने आरबीएसके टीम के तैनात सदस्यों के उनके 6 माह के कार्यकाल में उत्कृश्ट कार्य करने की दषा में 26 जनवरी एवं 15 अगस्त को बेस्ट ऑफ टीम मन्थ से सम्मानित करने हेतु मुख्य चिकित्साधिकारी को मांनक के अनुरूप नाम चयन करने हेतु निर्देष दिये।
इस दौरान जिलाधिकारी ने कहा कि 11 दिसम्बर को राजकीय कृर्ति इण्टर कालेज उत्तरकाषी में मानसिक अक्षमता से ग्र्रसित बच्चों की षिविर का आयोजन किया जा रहा है जिसमें बच्चों को देहरादून से पहुंचे विषेशज्ञों द्वारा जांच कर प्रमाण पत्र दिये जायेगे। उन्होने कहा कि क्षेत्रिय पटवारी एवं ग्राम विकास अधिकारी अपने क्षेत्र में सुनिष्चित कर रिर्पोट देगें कि उनके क्षेत्रान्तर्गत में कोई बच्च नही छूटे है। एआरटीओ एवं जिला समाज कल्याण अधिकारी को बच्चों को लाने एवं ले जाने हेतु वाहन की व्यवस्था सुनिष्चित करने के निर्देष दिये।
बैठक में मुख्य चिकित्साधिकारी डा. बीएस रावत, मुख्य षिक्षा अधिकारी आर.सी आर्य, जिला षिक्षा अधिकारी जेएस रावत, जिला समाज कल्याण अधिकारी बीएस रावत, जिला कार्यक्रम अधिकारी मोहित चौधरी, अमित राणा, संदीप राणा, राजेन्द्र षाह डा. रिचा असवाल, विजय कान्त षिलवाल सहित संबंधित अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे।