August 13, 2022

उत्तरकाशी : जनपद में 7.2 तीव्रता वाले बड़े भूकम्प को लेकर माॅक अभ्यास

  • उत्तरकाशी INDIA 121

जनपद में 7.2 तीव्रता वाले बड़े भूकम्प को लेकर माॅक अभ्यास किया गया। प्रातः 8ः05 बजे भूकम्प आने  पर तत्काल जिलाधिकारी डा. आषीष चैहान ने भूकम्प को लेकर कन्ट्रोल, पुलिस वायरलेस एवं कन्ट्रोल जल विद्युत निगम द्वारा सायरन बजाकर आईआरएस को सक्रिय किया। ठीक प्रातः 8ः10 बजे आईआरएस नोडल अधिकारियों एवं विभागीय नोडल अधिकारी कन्ट्रोल रूम में पहंुचकर आईआरएस के तहत अपने दायित्वों का निर्वहन करने में जुट गये। घटना स्थल से प्राप्त सूचना के बाद जिलाधिकारी ने सेटेलाईट फोन द्वारा जनपद में हुए क्षति की सूचना शासन को दी। 8ः30 बजे से क्षति की सूचना पर आईआरएस के तहत घटना के सम्बन्ध में ब्रिफिंग की गयी, जिसके बाद आईएपी तैयार कर स्टैजिंग ऐरिया एक्टिव किया गया। घटना के पांच स्थानों पर साईड सुपर वाॅईजर नियुक्त किये गये। भूकम्प माॅक अभ्यास में साईट सुपर वाॅईजर एक गंगोरी राजकीय इण्टर कालेज उत्तरकाषी में 152 की मृत्यु हुई तथा 110 गम्भीर घायल एवं 308 व्यक्ति घायल हुए। वहीं साईट सुपर वाॅईजर दो जिला चिकित्सालय में 100 लोगोंकी मौत तथा 170 गम्भीर घायल एवं 260 घायल हुए। वहीं साईट सुपर वाॅईजर सिंचाई विभाग कालोनी जोषियाड़ा में 52 लोगों की मौत हुई एवं 47 लोग गम्भीर घायल तथा 517 घायल हुए। भूकम्प से जिला कार्यालय एवं आवासीय परिसर उत्तरकाषी में 25 लोगा की मौत हुई जबकि 29 गम्भीर घायल तथा 100 लोग घायल हुए, वहीं नगरपालिका काॅम्पलेक्स बस स्टेंड में 45 मृतक 119 गम्भीर तथा 174 घायल हुए। घटना में सात पषु भी मरे जबकि 12 पषु घायल हुए। भूकम्प से राष्ट्रीय राजमार्ग, पेयजल, संचार, विद्युत, स्कूली भवन, कार्यालय भवन तथा आवासीय भवन एवं जिला अस्पताल क्षतिग्रस्त हुआ। भूकम्प से जनपद में 374 मृतक, 475 गम्भीर घायल तथा 1359 लोग घायल हुए।
जिलाधिकारी ने इस दौरान घटना स्थल/षिविरों में कानून व्यवसथा बनायें रखने के आदेष जारी करते हुए पुलिस बल को तैनात किया गया वहीं ट्रेफिक व्यवस्था को सुचारू बनाये रखने को भी पुलिस बल तैनात किया गया। जिलाधिकारी ने क्षतिग्रस्त एटीएम, पेट्रोलियम ईधन आदि को अधिग्रहित किया। साथ ही आपदा प्रभावित बच्चों की सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए 1098 हेल्पलाईन को सक्रिय किया।
जिलाधिकारी डा. चैहान ने बैंकर्स एवं व्यापार मण्डलों की आपात बैठक भी बुलाई। उन्होंने शासन से लाइफ डिडेक्टर, डाॅग स्क्वाॅट, साईकोलाजिकल टीम की मांग की। साथ ही चार हैलकाप्टर की मांग भी की। सभी राहत एवं बचाव दल द्वारा अपने-अपने कार्यों को कुषलतापूर्वक सम्पादन किया। सभी तैनात अधिकारियों, कर्मचारियों द्वारा कन्ट्रोल रूम में एकत्रित होकर कार्यों को सम्पादन करने में सुगमता एवं कठिनाईयों को बताया गया। उन्होंने जिलाधिकारी के सम्मुख कार्यों को ओर बेहतर बनाने हेतु अपने-अपने सुझाव भी दिये। इस पूरे घटना क्रम जनपद के सभी अधिकारी कर्मचारी, आर्मी,आईटीबीपी, एसडीआरएफ, पुलिस, एनआईएम, बीआरओ, एनसीएसी, एनएसएस स्थानीय ग्रामीणों ने प्रतिभाग किया।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी विनीत कुमार, प्रभारी अधिकारी जिला कार्यालय अनुराग आर्य, आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेन्द्र पटवाल, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. कल्पना गुप्ता, वरिष्ठ कोषाधिकारी हिमानी स्नेही, जिला विकास अधिकारी संजय सिंह, कार्यक्रम अधिकारी मौहित चैधरी, सचिव रेडक्रास जगमोहन अरोड़ा सहित अन्य अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे।