August 10, 2022

इन्सीडेन्ट रिस्पाॅन्स सिस्टम से जुडे अधिकारियों को दिया प्रशिक्षण

राष्ट्रीय आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण के निर्देशानुसार इन्सीडेन्ट रिस्पाॅन्स सिस्टम के तहत हमें पूर्ण जिम्मेदारी/तैयारी के कार्य करना होगा यह बात विशेषज्ञ राज्य आपदा प्राधिकरण श्री बी0पी0 गणनायक ने आज जिला कार्यालय में स्थिति बहुउददेशीय सभागार में आई0आर0एस0 सिस्टम से जुडे अधिकारियों को प्रशिक्षण के दौरान कही। उन्होंने कहा कि इस सिस्टम को प्रभावी बनाने के लिये हमें ग्रामीण स्तर तक लोगों को जागरूक कर कार्य करना होगा। जनपद में जिला आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण के अध्यक्ष जिला मैजिस्ट्रेट के निर्देश पर इस सिस्टम में कार्य किया जायेगा। आपदा की प्रकृति और प्रकार पर निर्भर करते हुये जिले में विभिन्न विभागों के प्रमुखों को अलग-अलग भूमिकायें निभानी होगी। इस तरह की घटनायें घटित होने पर जिले में किसी विभाग, स्थानीय प्राधिकारी, प्राइवेट सैक्टर आदि के पास उपलब्ध संसाधनों को प्रयोग किया जा सकता है।
उन्होंने कहा कि आपदा आने पर इन्सीडेन्ट कान्मडर की भूमिका महत्वपूर्ण होती हैं वह अपने साथ जुडे़ अधिकारियों से संसाधनों की उपलब्धता, संचार की उपलब्धता, स्टैचिंग एरिया, खोज बचाव व राहत सामाग्री वितरण, घटना स्थल पर कानून व यातायात व्यवस्था तथा टीम के सदस्यों को आई0ए0पी0 के अनुसार विभिन्न कार्यपालन के सम्बन्ध में अवगत करायंेगेे। इस अवसर पर इन्फोरमेशन व मीडिया आफिसर की महत्वपूर्ण भूमिका रहती है। घटनाओं के सम्बन्ध में सूचना तैयार करना आकस्मिक आपदाओं की स्थिति में लिये गये निर्णयों तथा जारी निर्देशों का प्रसारण, घटना के सम्बन्ध में मीडिया रिर्पोट को माॅनिटरिंग कराना मौसम की सूचना आदि कार्य करेंगे। एल0ओ0 लाॅइजनिंग आॅफिसर की भूमिका की वह एन0डी0आर0एफ0, एस0एस0बी0,आई0टी0बी0पी0 के समन्वय बनाये रखेंगे। इसी तरह सैफ्टी आफिसर आपरेशन सैक्शन, आपरेशन सैक्शन चीफ, स्टेजिंग मैनेजर, रिस्पोन्स ब्रान्च, ट्रान्सपोर्ट ब्रान्च, भारण/आभारण प्रभारी, रिर्सोस यूनिट, योजना अनुभाग चीफ, डाक्यूमेंट यूनिट, टैक्निकल, लोजिकल एण्ड फाईनेंश सैक्शन, सर्विस ब्रांच, कम्यूनिकेशन यूनिट लीडर, मेडिकल यूनिट लीडर, फूड यूनिट लीडर, स्पोर्टस ब्रांच लीडर सहित अन्य जो आई0आर0एस0 सिस्टम से जुडे हैं उनको उनकी जिम्मेदारी के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि ग्रामीण स्तर तक आगनबाड़ी कार्यकत्रियों, आशा कार्यकत्रियों, पटवारियों, ग्राम विकास अधिकारी सहित ग्रामीण क्षेत्रों में कार्य कर रहे कर्मचारियों व जनप्रतिनिधियों को हमें इस सिस्टम से जोड़कर जागरूक करना होगा।
विशेषज्ञ राज्य आपदा प्राधिकरण ने कहा कि प्रशिक्षण के दौरान यदि किसी को कोई संशय हो तो वे बिना झिझक के उसे पूछ सकते है ताकि उसका समाधान हो सके। उन्होंने सभी अधिकारियों से कहा कि इस प्रशिक्षण को प्राप्त करने के बाद वे अधिक सक्रियता से अपने कार्य को कर पायेंगे ऐसा विश्वास है। राज्य आपदा प्रबन्धन विभाग द्वारा सभी जनपदों के आपदा प्रबन्धन विभाग को सक्रिय किया जा रहा है और उसे हर संसाधनों से लैंस किया जा रहा है। इस अवसर पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पी0रेणुका देवी ने कहा कि आई0आर0एस0 सिस्टम में पुलिस विभाग को जो जिम्मेदारी सौंपी गई है उसका निर्वाहन पूरी तत्परता से करेंगे।
इस अवसर पर उपजिलाधिकारी सदर विवेक राय, उपजिलाधिकारी भनौली अवधेश कुमार, जिला विकास अधिकारी मो0असलम, आबकारी अधिकारी विवेक सोनकिया ने अनेक विषयों पर विचार विर्मश किया और विस्तृत जानकारी प्राप्त की। आपदा प्रबन्धन अधिकारी राकेश जोशी ने जनपद स्तर पर तैयारियों के बारे में प्रकाश डाला। इस प्रशिक्षण में स्वास्थ्य, सड़क, शिक्षा, खाद्य, पेयजल, अर्थसंख्याधिकारी, बाल विकास विभाग,पशुपालन विभाग, एस0एस0बी0व सेना के अधिकारी उपस्थित थे।