December 9, 2022

CM रावत ने दी खुमाड़, सल्ट में शहीदों को श्रद्वांजली

सल्ट खुमाड़ा/अल्मोड़ा 05 सितम्बर, 2017 (सू0वि0) – सल्ट को उनके महान त्याग और बलिदान के आधार पर कुमाऊॅ की बारदोली की संज्ञा दिलवाना समस्त सल्ट निवासियों की सुसंगठित एवं सुदृढ़ शक्ति का परिणाम है भारत माता को स्वतन्त्र कराने के लिए देश में सर्वत्र बलिदान एवं आहुतियाॅ हुई पर इतिहास प्रसिद्व बारदोली इसी क्षेत्र को कहा गया यह बात प्रदेश के मा0 मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने आज खुमाड़, सल्ट में शहीदों को श्रद्वांजली देते हुए कही। मा0 मुख्य मंत्री ने कहा कि देश की आजादी में हमारे शहीदों का अभूतपूर्व योगदान है जिसे भुलाया नही जा सकता है। इस अवसर पर मा0 मुख्यमंत्री को देवेन्द्र उपाध्यय के अनुज व सल्ट के विधायक सुरेन्द्र सिंह जीना ने कुमाऊ की बारडोली नामक एक पुस्तक उन्हें भेंट की। इस कार्यक्रम में केन्द्रीय कपड़ा राज्य मंत्री अजय टम्टा, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट, विधायक सुरेन्द्र जीना, अनिल शाही, गोविन्द पिल्खवाल सहित अन्य लोग थे। कार्यक्रम का संचालन मदन सिंह भण्डारी ने किया।
मा0 मुख्यमंत्री ने कहा कि 1942 की जनक्रान्ति का व्यापक असर पूरे देश के साथ सल्ट में भी पड़ा। सल्ट के कार्यकर्ताओं ने सभाओं द्वारा सरकार की नीति की निन्दा करते हुए आजादी की घोषणा की तथा भारत छाड़ों नारे को बुलन्द किया। आन्दोलन के तहत कार्यकर्तागण 01 सितम्बर, 1942 को खुमाड़ पहुॅचे, 03 सितम्बर को इलाका हाकिमपाली पुलिस जत्थे सहित देघाट(चोकोट) में गोली चलाकर भिकियासैंण पहुॅचा और 05 सितम्बर को  पुलिस फोर्स क्वैराला पहुॅच गया इस सूचना के खुमाड़ पहुॅचने पर सत्याग्रहों की भीड़ इकटठा होने लगी और रास्ते भर मारपीट करते आ रहे हाकिम ने खुमाड़ पहुॅचकर मोर्चा बाॅध लिया सामने निहत्थी भीड़ खड़ी थी आगे से गंगादत्त शास्त्री थे निहत्थी भीड़ पर अंग्रेज हाकिम द्वारा गोली चला दी गयी जिससे दो सगे भाई गंगा राम व खीमानन्द पुत्र टीका राम खुमाड़ घटनास्थाल पर ही शहीद हो गये। 02 अन्य व्यक्ति चूणामढ़ी व बहादुर सिंह महर 04 दिन बाद स्वर्गवासी हो गये अन्य 05 व्यक्ति गंगा दत्त शास्त्री, मधुसूदन, गोपाल सिंह, बचे सिंह, नारायण सिंह गोली लगने से घायल हो गये थे। स्वतन्त्रता संग्राम में सल्ट का बलिदान सदा अविस्मरणीय रहेगा।
मा0 मुख्यमंत्री ने अपने सम्बोधन में कहा कि हमारा संकल्प है कि हम 2021 तक पूरे प्रदेश में बिजली, पानी, सड़क, शिक्षा, स्वास्थ्य और शौचालय की सुविधा प्रत्येक व्यक्ति तक पहुॅचा देंगे इसके लिये प्रत्येक विभाग को लक्ष्य दिये जायंेगे। उन्होंने संस्थागत भ्रष्टाचार को खत्म करने की बात कही और कहा कि कोई भी भ्रष्टाचार में लिप्त पाया जायेगा तो उसके खिलाफ कडी कार्यवाही की जायेगी। प्रदेश को पर्यटन के रूप में विकसित करने के लिये 13 नये पर्यटन स्थलों को विकसित करने की तैयारी की जा रही है साथ ही केन्द्र सरकार द्वारा प्रदेश की अधिकांश सड़कों को राष्ट्रीय राज्य मार्ग घोषित कर दिया गया है। हवाई सेवा को बढ़ावा देने के लिये जनपद के चैखुटिया में हवाई अड्डे का निर्माण किया जा रहा है और चिन्यालीसैण, पिथौरागढ़, पंतनगर हवाई अडडों को आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित किया जा रहा है ताकि अधिकाधिक पर्यटक यहां आ सके। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिये 203 डाक्टरों का चयन कर लिया गया है जिन्हें दूरस्थ क्षेत्रों में भेजा जायेगा इसके साथ ही 250 आबादी वाले गांवों को सड़क से जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है। 2019 तक वंचित गावों में बीरिफ्रकेस सोलर के माध्यम से बिजली पहुॅचायी जायेगी जिसकी पहली खेफ स्वीटजरलैण्ड से भारत आयेंगी और भारत में भी उत्तराखण्ड में आयेगी और आगामी दिवाली तक 8हजार परिवारों को रोशनी पहुॅच पायेगी। उन्होंने कहा कि हमारे पर्वतीय क्षेत्र की सबसे गम्भीर समस्या पलायन की है इसके लिये एक आयोग का गठन कर दिया गया है जिसमें विषय विशेषज्ञों को रखा गया है जो इस पर अध्यन करेंगे। उन्होंने कहा कि 670 न्याय पंचायत को विकसित कर वहां पर महिला समूह व महिलाओं को स्वालम्बी बनाने का कार्य किया जायेगा।
इस अवसर पर उन्होंने 313.46 लाख रू0 की लागत की 07 योजनाओं का शिलान्यास किया जिनमें से राज्य योजना अन्तर्गत विधानसभा क्षेत्र सल्ट में जाख से डांग से मोटर मार्ग का सुधारीरकण एवं सी0सी0 का कार्य लागत 51.42 लाख रू0, राज्य योजना के अन्तर्गत सल्ट में मुख्य मोटर मार्ग सैढमानुर तक मोटर मार्ग का सुधारीकरण एवं डामरीकरण का कार्य लागत 55.22 लाख रू0, विधानसभा क्षेत्र सल्ट-बरकिन्डा-मानिला डोटियाल मोटर मार्ग में मानिला से बिष्ट बाखली तक मार्ग का सुधारीकरण एवं डामरीकरण का कार्य लागत 60.61 लाख रू0, बरकिन्डा-मानिला मोटर मार्ग से रतखाल बाजार मोटर मार्ग का डामरीकरण एवं नाली निर्माण का कार्य लागत 19.36 लाख रू0, जमरिया गाॅव तक रोड़ का सुधारीकरण एवं डामरीकरण का कार्य लागत 37.15 लाख रू0, सल्ट में मुख्य मोटर मार्ग से भौनादेवी मन्दिर सम्पर्क मार्ग का सुधारीकरण, डामरीकरण एवं डिफैक्ट कटिंग का कार्य लागत 44.93 लाख रू0 भौनडाडा से जामड़ी-जैखाल मोटर मार्ग के अवशेष भाग के डामरीकरण का कार्य लागत 44.77 लाख रू0 प्रान्तीय खण्ड लोक निर्माण विभाग रानीखेत द्वारा राज्य योजना के अन्तर्गत इन कार्यों को किया जायेगा। इस अवसर पर उन्होेंने पूर्व मंे हुई 14 घोषणायें जिनका शासनदेश पूर्व मे नहीं हुआ था उसका शासनादेश कर दिया है की बात  उन्होंने कही। जिनमें मानिला में मिनी स्टेडियम का निर्माण, ईको पार्क का निर्माण, झिमार पम्पिंग योजना, सल्ट बाजार में हाईटैक शौचालय का निर्माण, मानिला में रिवर राफ्टिंग का निर्माण, मरचूला में झील निर्माण, इनालू हेतु लिफ्ट निर्माण, सल्ट के पुराने मंदिरों का निर्माण, मेटला में पूल का निर्माण, हरड़ा से भिकियासैण की सड़क का नाम स्व0 गोपाल सिंह रावत के नाम से करने की घोषणा सहित अन्य योजनाओं की स्वीकृति प्रदान की गई। इस अवसर पर उन्होंने हंसी ढुंगा, ढुगरकोट जिसमें 190 गांव लाभान्वित होगें उसके लिये पम्पिंग योजना की स्वीकृति प्रदान की।
इसके बाद उन्होंने हिमालय बचाओं दिवस की सभी को प्रतिज्ञा दिलायी और कहा कि यह एक अच्छी पहल शुरू की गई है इसमें हम सभी को सहयोग प्रदान करना होगा।
इस अवसर पर केन्दीय कपड़ा राज्य मंत्री अजय टम्टा ने शहीदों को श्रद्वाजंली देते हुए कहा कि सल्ट क्षेत्र वीरो की भूमि रही है इन शहीदों को हमारी सच्ची श्रद्वाजंली तभी सही साबित होगी जब हम उनकी भावनाओं के अनुरूप क्षेत्र के विकास के लिए संगठित होकर कार्य करेगें। उन्होंने मा0 मुख्यमंत्री को क्षेत्र की अनेक समस्याओं से भी इस अवसर पर अवगत कराया। इस कार्यक्रम में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अजय भटट, विधानसभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चैहान, सल्ट के विधायक सुरेन्द्र जीना, युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष कुन्दन सिंह लटवाल, अनिल शाही,ने अपने विचार रखते हुए कहा सल्ट के विकास के लिए सरकार पूर्णरूप से कटिबद्ध है यहाॅ का विकास सुनियोजित ढंग से करने के प्रयास किये जायेंगे।
इस कार्यक्रम में पूर्व सासंद बची सिंह रावत, मण्डल अध्यक्ष नन्दन सिंह, प्रताप सिंह रावत, दर्शन सिंह बिष्ट, अनिल सिंह, दिनेश मेहरा,धनसिंह मेहरा, महेश्वर सिंह मेहरा, जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव, पुलिस अधीक्षक पी0 रेणुका देवी, मुख्य विकास अधिकारी जे0एस0 नागन्याल, उपजिलाधिकारी गोपाल राम बिनवाल, उपजिलाधिकारी गौरव चटवाल, परियोजना निदेशक नरेश कुमार, मुख्य चिकित्साधिकारी निशा पाण्डे सहित अनेक जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। इस अवसर पर रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये। कार्यक्रम का संचालन नरेन्द्र सिंह भण्डारी ने किया।