November 26, 2022

उत्तरकाशी : जबतक कानून न रोके सूचना देनी चाहिए : रावत

  • उत्तरकाशी INDIA 121

राज्य सूचना आयुक्त सुरेन्द्र सिंह रावत की अध्यक्षता में जिला सभागार में लोक सूचना अधिकारियों के साथ सूचना अधिकार के सफल क्रियान्वयन के संबंध में दो दिवसीय कार्यषाला का आयोजन किया गया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देष दिये कि सूचना के अधिकार अधिनियम 2005 के तहत मांगी गयी सूचना आवेदक को निर्धारित समय के अन्तर्गत उपलब्ध कराना अनिवार्य है। उन्होंने कहा कि दी जाने वाली सूचना में किसी तरह का विलंब न किया जाय। कहा कि सूचना अधिकार अधिनियम 2005 षासकीय कार्यों में प्रादर्षित लाने के लिए बनाया गया कानून है।
कार्यषाला में उन्होंने लोक सूचना अधिकारियों द्वारा पूछे गये सवालों के जवाब दिये तथा उनकी संकाओं को दूर किया। उन्होंने कहा कि नजरिया यह होना चाहिए कि जबतक कानून न रोके सूचना देनी चाहिए। अनुरोधकर्ता द्वारा मांगी गयी सूचना का शुल्क का विवरण देने के साथ-साथ अपीलीय अधिकारी का पदनाम व पता अनिवार्य रूप से दें। उन्होंने कहा कि शुल्क मांगे जाने से लेकर षुल्क प्राप्त होने तक समय की गणना नही की जायेगी। जैसे ही शुल्क प्राप्त होगा समय की गणना षुरू होगी। कहा कि 30 दिन के भीतर ही सूचना आवेदक को उपलब्ध करायी जानी है। उन्होंने यह भी कहा कि अनुरोध पत्र एक से अधिक को स्थानान्तरण नही होगा। कहा कि मांगी जा रही सूचना का नष्ट व हानी होने की संभावना बन रही हो तो सूचना का फोटो खिचवायें य अवलोकन करवायें। यह भी कहा कि सूचना को नष्ट कर सूचना को देने के लिए बाध्य नही है। बीपीएल श्रेणी अनुरोधकर्ताओं को सूचना अपने व परिवार से संबंधित सूचना निःषुल्क दिया जायेगा। सूचना भिन्न है तो सौ रूपये तक की सूचना निःषुल्क दी जायेगी, इससे अधिक सूचना मांगने पर षुल्क लिया जायेगा। उन्होंने उपस्थित सभी लोक सूचना अधिकारियों को सूचना अधिकार से संबंधित धारा एवं उप धारा की सम्पूर्ण जानकारी दी।
उन्होंने कहा कि सहायक लोक सूचना प्राधिकारी राज्य सरकार द्वारा नामित नही किया गया है, बल्कि केन्द्र सरकार द्वारा दूरस्थ एवं दुर्गम क्षेत्रों के डाक घरों में नामित किया गया है। इनका कार्य अनुरोधकर्ता द्वारा मांगी गयी सूचना के अनुरोध पत्र को लोक सूचना अधिकारी तक पहंुचाना होता है, जिसके लिए पांच दिन का समय निर्धारित किया गया है।
इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी विनीत कुमार, पुलिस अधीक्षक ददनपाल, अपर जिलाधिकारी पीएल शाह, उपजिलाधिकारी देवेन्द्र नेगी, पुलिस उपाधीक्षक मनोज कुमार ठाकुर, आपद प्रबंधन अधिकारी देवेन्द्र पटवाल सहित अन्य लोक सूचना अधिकारी उपस्थित थे।