December 8, 2022

उत्तरकाशी : शीघ्र सड़क से वंचित गांव का प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजें : डाॅ. स्वराज

  • उत्तरकाशी INDIA 121

मा. सदस्य राश्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग डाॅ. स्वराज विद्वान ने अनुसूचित जाति, गरीब लोगों के लिए चलायी जा रही कल्याणकारी योजनाओं एवं उनके उत्पीड़न को लेकर जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक जिला सभागार में ली। उन्होने कहा कि लोगो के ज्यादातर मामले एवं षिकायत समाज कल्याण विभाग को लेकर उनके पास आ रही हैं। राश्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना, गोरा देवी कन्याधन योजना, पुत्री की षादी के लिए दिये जाने वाले अनुदान राषि, छात्रवृति, आदि को लेकर मामले प्रकाष में आ रहें हैं। उन्होने कहा कि अनुसूचित जाति वर्ग के लोगो के पुत्री के विवाह के लिए सरकार द्वारा दी जाने वाली राषि समाज एवं समय की जरूरत हैं। उन्होने जिला समाज कल्याण अधिकारी को निर्देषित करते हुए कहा कि समय से षासन से बजट की मांग करने हेतु प्रस्ताव भेजें।
अनुसूचित जाति के परिवार के लोगों की स्थिति दैयनीय है सरकार के द्वारा चलायी जा रही कल्याणकारी योजनाओं को उन तक पंहुचाने के लिए सभी अधिकारी एवं कर्मचारी को एक भावनात्मक दृश्टिकोण के तहत अपने कार्यो को गंभीरता से लें। उन्होने कहा कि जिन विभागों में बजट की कमी हो रही हैं वे षासन को प्रस्ताव भेंजे तथा आयोग को भी अवगत करायें। उन्होने कहा कि तिलोथ स्थित अनुसूचित जाति वर्ग के छात्रों के लिए बनें छात्रावास में स्टाफ की व्यस्था करें तथा जीर्णषीर्ण छात्रावास को समय से ठीक करने को कहा।
वहीं सेवायोजन विभाग के द्वारा अनुसूचित जाति वर्ग के लोगों को कौन-कौन सी योजनायें चलायी जा रही इसकी भी उन्होने जानकारी ली। कहा कि अनुसूचित जाति के लोगों को प्रषिक्षण देकर रोजगार के लिए प्रेरित करें और ऐसे अनुसूचित जाति बाहुल्य गांव जहां लोगो को सेवायोजन विभाग की अनुसूचित जाति वर्ग के लिए बनीं योजनाओं की जानकारी नहीं हैं वहां पर कैंप लगाकर लोगों को प्रषिक्षण देकर जागरूक करने के निर्देष जिला सेवायोजन अधिकारी को दिये। उन्होने अनुसूचित जाति वर्ग की भूमि हस्तांतरण के मामलों को लेकर उप जिलाधिकारी को निर्देषित करते हुए कहा कि भूमि हस्तांरण वाले मामले तहसीलवार प्राप्त कर एक माह के भीतर आयोग को प्रेशित करें।
मा. सदस्या सुश्री विद्वान ने कहा कि अनुसूचित जाति वर्ग के लोगों के जाति प्रमाण पत्र एवं आय प्रमाण पत्र भी समय से निर्गत किया जाय जिससे उनको इधर-उधर न भटकना पड़े उनके कार्यो के लिए कुछ सरलता बरतनी होगी। उन्होने ऐसे अनुसूचित जाति बाहुल्य गावं की भी जानकारी ली जहां अभी तक सड़क नहीं पंहुच पायी है। जिसमें लोनिवि के अधिषासी अभियंता द्वारा बताया गया है कि 03 गांव ऐसे है जो सड़क से नहीं जुड़ पायें हैं। मा. सदस्या ने निर्देष दिये कि षीघ्र सड़क से वंचित गांव का प्रस्ताव बनाकर षासन को भेजें। कहा कि डांग-लोलदा-मालना सड़क मार्ग के कार्यो में भी तेजी लायें जिससे लोगों को सड़क से जुड़ने का लाभ मिल सकें। उन्होने कहा कि दिचली अनुसूचित जाति बाहुल्य गांव में लोगों ने पेयजल योजना के पुर्नगठन को लेकर मांग की गई हैं, षीघ्र ही पुर्नगठन का प्रस्ताव बनाकर षासन को भेजने के निर्देष अधिषासी अभियंता जल संस्थान को दिये।
प्रभारी जिलाधिकारी/मुख्य विकास अधिकारी विनीत कुमार ने कहा कि मा. सदस्या के द्वारा दिये गये निर्देष को सभी अधिकारी गंभीरता से लें तथा बताये गये कार्यो को षीघ्रता से निस्तारित करें।
इधर प्रेस वार्ता मेें उन्होने कहा कि पूर्व आयोग के कार्यकाल में अनुसूचित जाति, गरीब, एवं आदिवासी की समस्याओं को लेकर 51 हजार फाईल आयोग में लंबित पड़ी हैं इसके अलावा आयोग के विभिन्न कार्यालयों में भी हजारों फाईले लंबित हैं। मा. सदस्या सुश्री विद्वान ने कहा कि अब नये आयोग के आने से अनुसूचित जाति, गरीब, एवं आदिवासियों की समस्याओं को षीघ्र निस्तारण किया जा रहा हैं। उन्होने कहा कि अपने 3 माह के कार्यकाल मेंएक हजार से उपर के मामलों को निस्तारित किया हैं।
इस दौरान प्रभारी जिलाधिकारी विनीत कुमार, पुलिस अधीक्षक ददनपाल,अपर जिलाधिकारी पी.एल.षाह, भाजपा जिलाध्यक्षक रामसुन्दर नौटियाल, उपजिलाधिकारी डुण्डा सौरभ असवाल, भटवाड़ी देवेन्द्र सिंह नेगी,जिला कार्यक्रम अधिकारी मोहित चैधरी, विजय संतरी, हरिष डंगवाल,सहित जिला स्तरीय अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।