February 9, 2023

श्री राम कथा श्री राम विवाह प्रसंग साध्वी सुश्री गरिमा भारती जी दिव्य ज्योति जागृति संस्थान

सतीश सेठी/ ब्यूरो चीफ/ सनसनी सुराग न्यूज़ सहारनपुर
श्री राम कथा
श्री राम विवाह प्रसंग
साध्वी सुश्री गरिमा भारती जी
दिव्य ज्योति जागृति संस्थान

Day 4

दिव्य ज्योति जागृति संस्थान की ओर से सहारनपुर में श्री राम कथा अमृत आयोजन के चतुर्थ दिवस में साध्वी सुश्री गरिमा भारती जी ने सीता स्वयंवर प्रसंग को प्रस्तुत किया। प्रभु श्री राम जी ऋषि विश्वामित्र जी के संग वन प्रांत में जाकर आसुरी शक्तियों का समापन करते हैं। साध्वी जी ने बताया वास्तव में हमारा मन वन का प्रतीक है। ताड़का और सुबाहु मारीच इत्यादि असुर हमारे मन में उठने वाले काम ,क्रोध ,लोभ, मोह, अहंकार का प्रतीक है। जिस प्रकार से वन प्रांत में प्रभु श्रीराम के प्रकट होने पर आसुरी शक्तियों का अंत हुआ। अंधकार व अज्ञानता समाप्त हुए और शांति के साम्राज्य की स्थापना हुई ठीक वैसे ही हमारे अंतर्गत में जब तब श्रीराम का प्राकट्य होगा, तब इन विकारों के ऊपर अंकुश लग पाएगा। आवश्यकता है एक सतगुरु के शरणागत होकर अपने अंदर श्रीराम को प्रकट करने की। तदुपरांत प्रभु श्री राम जनकपुर में प्रस्थान करते हैं जहां प्रभु श्री राम भगवान शिव के धनुष को भंग कर मां सीता का वरण करते हैं। प्रभु श्री राम व जानकी का विवाह मात्र एक मनोरंजन के लिए नहीं है। मां सीता आत्मा का प्रतीक है तो प्रभु श्रीराम परमात्मा का। विवाह प्रसंग हमें संदेश देता है कि यदि हम अपनी आत्मा रूपी कन्या का भगवान श्री राम रूपी वर के संग विवाह करना चाहते हैं हमें अपने जीवन में एक विचोलिया के रूप में सतगुरु की आवश्यकता है । गुरु के बिना इंसान ईश्वर का दर्शन प्राप्त नहीं कर सकता है । आज बहुत से लोग गुरु को तो अपने जीवन में धारण करते हैं परंतु धर्म ग्रंथों की इस कसौटी के आधार पर नहीं, जो समय का सच्चा संत सतगुरु हुआ करता है वो हमारे घट में ईश्वर का साक्षात्कार करवाता है। हम संत के चेहरे का नूर, उसके पीछे लगे लोगों की भीड़, मधुर वाणी में धर्म ग्रंथों के ज्ञान से एक सतगुरु की पहचान करते हैं। लेकिन हमारे शास्त्र धर्म ग्रंथ कहते हैं फूटी आंख विवेक की जाने ना संत असंत आज हमारे पास वह विवेक की आंख नहीं है जिससे हम एक सच्चे संत की पहचान कर पाए। और उसके शरणागत होकर ईश्वर अनुभूति का साक्षात्कार कर अपने जीवन को सार्थक कर पाए। दिव्य ज्योति जागृति संस्थान के संस्थापक एवं संचालक परम पूजनीय वंदनीय सर्व श्री आशुतोष महाराज जी उस सनातन पुरातन ब्रह्म ज्ञान को देकर करके ईश्वर दर्शन की अनुभूति करवाने का सामर्थ्य रखते हैं । दिव्य ज्योति जागृति संस्थान समस्त प्रभु प्रेमी भक्तों का ईश्वर दर्शन के लिए आवाहन करता है। इस संदेश के साथ अंत में हरिता भारती, सद्दया भारती, योगिनी भारती, साध्वी निवृत्ति भारती, मनु भारती, व महात्मा हरीश, महात्मा अमृत जी ने प्रभु की पावन आरती का सुंदर गायन करते हुए कथा प्रसंग को विराम दिया।

मुख्य अतिथि
मुंशी लाल गौतम
प्रदेश महामंत्री भाजपा
मुकेश चौधरी विधायक
महेंद्र तनेजा अध्यक्ष पंजाबी समाज
के एल अरोरा सीनियर सिटीजन संस्थापक
रोबिन वैश्य
राजन गांधी
विकास

Leave a Reply

Your email address will not be published.