उत्तराखंड में अब बच्चों का भी बन सकेगा आयुष्मान कार्ड…

सरकार द्वारा लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवा के उद्देश्य से कई योजनाएं चलाई जा रही है‌। इसमें सबसे महत्वपूर्ण योजना प्रधानमंत्री जन-आरोग्य आयुष्मान भारत योजना है। इसके लाभार्थियों को पांच लाख रुपये तक के नि:शुल्क इलाज की सुविधा मुहैया करायी जा रही है। उत्तराखंड में अब 5 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों को भी इस योजना का लाभ मिल सकेगा। इसके लिए अब बच्चों का भी आयुष्मान कार्ड बन सकेगा। आइए जानते हैं कैसे?

मिली जानकारी के अनुसार राज्य सरकार ने 5 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोगों का आयुष्मान कार्ड बनाने का निर्णय लिया है। इसके लिए सरकार ने प्रदेश में 5 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोगों का मार्च 2024 से पहले आयुष्मान कार्ड बनाने का लक्ष्य रखा है। बता दें कि रोजाना सैकड़ों मरीज आयुष्मान योजना का लाभ ले रहे हैं. इस योजना के तहत पांच लाख रुपये तक का इलाज बिल्कुल मुफ्त है। आयुष्मान कार्ड केवल सरकारी ही नहीं बल्कि कई प्राइवेट अस्पतालों में भी मान्य है।

बताया जा रहा है कि आयुष्मान कार्ड में 59 जांचें मुफ्त कराई जाती हैं, जिसमें ब्लड टेस्ट, अल्ट्रासाउंड, एक्स-रे से लेकर सभी महत्वपूर्ण जांचें मुफ्त होती है। आयुष्मान कार्ड के जरिये मलेरिया बुखार , HIV ,बच्चेदानी की सर्जरी , मोतिया बिंद, हर्निया, पाईल्स, ह्रदय रोग और TV जैसी बीमारी का इलाज ये सब इलाज मुफ्त में किए जाते हैं।

अभी तक प्रदेश में 62 लाख लोगों का आयुष्मान भारत हेल्थ अकाउंट यानी आभा आईडी बनाई जा चुकी है। स्वास्थ्य विभाग की मानें तो आयुष्मान योजना के तहत अभी तक उत्तराखंड में करीब 9 लाख 11 हजार मरीज का इलाज किया जा चुका है। हालांकि, इस इलाज पर राज्य सरकार ने करीब 1,720 करोड़ रुपए खर्च किए हैं। वहीं, राज्य सरकार आयुष्मान भव अभियान के तहत प्रदेश में आयुष्मान कार्ड और शत प्रतिशत आभा आईडी बनाने के कार्य में तेजी ला रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *