वॉट्सऐप का इस्तेमाल करने वाले पढ़ ले ये खबर, दो करोड़ अकाउंट्स बैन…

आज हर कोई स्मार्ट फोन और इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप वॉट्सऐप का इस्तेमाल करता है। इस वॉट्सऐप से जुड़ा बड़ा अपडेट आ रहा है। बताया जा रहा है कि वॉट्सऐप ने चार महीने में दो करोड़ से ज्यादा अकाउंट बैन किए है। जिसमें अगस्त माह में 74,20,748 अकाउंट्स पर बैन लगा दिया गया है। कहीं आपका भी अकाउंट तो नहीं बैन हुआ या होने वाला है जान लीजिए नियम

मीडिया रिपोर्टस के अनुसार नए आईटी नियम-2021 के बाद से सभी बड़ी सोशल मीडिया कंपनियों को हर महीने रिपोर्ट जारी करनी पड़ती है। इसी कड़ी में मेटा के स्वामित्व वाले इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप वॉट्सऐप ने अगस्त महीने की रिपोर्ट जारी कर दी है और कंपनी ने अगस्त महीने में भारत में रिकॉर्ड 74 लाख से अधिक बैड अकाउंट्स पर बैन लगा दिया। वॉट्सऐप ने अपनी मंथली कंप्लायंस रिपोर्ट में बताया कि अगस्त में उसने 74,20,748 अकाउंट्स पर बैन लगा दिया।इनमें से लगभग 35,06,905 अकाउंट पर बिना किसी शिकायत के स्‍वयं संज्ञान लेते हुये बैन लगाया गया।

बताया जा रहा है किलोकप्रिय मैसेजिंग प्लेटफॉर्म वॉट्सऐप को अगस्त में रिकॉर्ड 14,767 शिकायत रिपोर्ट प्राप्त हुईं, और 71 पर कार्रवाई की गई। रिपोर्ट में यूजर्स से प्राप्त शिकायतों और वॉट्सऐप द्वारा की गई कार्रवाई के साथ-साथ उसके प्लेटफॉर्म पर दुरुपयोग से निपटने के लिए वॉट्सऐप की अपनी प्रीवेंटिव एक्शन का विवरण शामिल है।  इसके अलावा, कंपनी को अगस्त में देश में ग्रीवेंस अपीलेट कमिटी से केवल एक आदेश मिला जिसका उसने पालन किया।

किस वजह से बैन होते हैं इतने अकाउंट?

वॉट्सऐप उन अकाउंट को बैन करता है जो कंपनी की टर्म्स एंड कंडीशन के खिलाफ जाकर प्लेटफॉर्म पर एक्टिव होते हैं। अगर आप वॉट्सऐप पर अश्लील, गैर कानूनी, मानहानि, धमकाने, नफरत फैलाने या अन्य गलत कामों में लिप्त होते हैं तो कंपनी आपका अकाउंट बैन कर सकती है। अगर आप नहीं चाहते कि आपका अकाउंट बैन हो तो इसके लिए कंपनी की टर्म्स एंड कंडीशन के तहत ही अकाउंट को ऑपरेट करें।

ये है नियम

बता दें कि नए आईटी नियम 2021 के तहत के तहत 50 लाख से ज्यादा यूजर बेस वाले हर एक सोशल मीडिया कंपनी को हर महीने एक डिटेल रिपोर्ट शेयर करनी होती है, जिसमें ये सार्वजनिक तौर पर बताना होता है कि यूजर्स द्वारा महीने भर मिली शिकायत पर क्या कार्रवाई की गई है। भारत में वॉट्सऐप के लगभग 50 करोड़ यूजर्स हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *